महाराष्ट्र की सियासत: मुख्यमंत्री का पद अभी खाली नहीं; प्रफुल्ल पटेल ने नाना पाटोले पर साधा निशाना

नागपुर: राज्य में भले ही तीन दलों की महाविकास आघाडी सरकार है, लेकिन कांग्रेस पार्टी समय-समय पर अपने दम पर आगामी चुनाव लड़ने की भूमिका लेते नजर आ रही है। इस भूमिका पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने सफाई दी है। इस चर्चा पर राष्ट्रवादी नेता प्रफुल्ल पटेल ने टिप्पणी की है। इस दौरान पटेल ने मुख्यमंत्री पद का फॉर्मूला भी समझाया।

लोकतंत्र में मुख्यमंत्री कोई भी हो सकता है। जिस पार्टी के पास अधिक विधायक होते हैं और जिसे जनता का समर्थन प्राप्त होता है, वह मुख्यमंत्री बनता है। वर्तमान में महाविकास आघाडी के पास बहुमत है और हमारे मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे हैं। इसे देखते हुए अभी मुख्यमंत्री का पद खाली नहीं है, उन्होंने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले पर टिप्पणी की।

अभी चुनाव के लिए समय है। उससे पहले इस तरह का बयान देना समझदारी नहीं है, ऐसा पटेल ने कहा। शिवसेना का मुखपत्र पढ़ने के बाद कांग्रेस प्रभारी एच. के पाटिल कह रहे हैं कि चुनाव को लेकर फैसला 2023 में होगा। इसलिए, इस मुद्दे पर अभी बोलना उचित नहीं होगा,  ऐसा पटेल ने आगे कहा।

पटेल ने कहा कि अभी स्थानीय निकाय चुनावों पर टिप्पणी करना ठीक नहीं है। इसके साथ ही राज्य सरकार ने ओबीसी के राजनीतिक आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि महाविकास आघाड़ी में तीनों दलों के बीच अच्छा तालमेल है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिल्ली में एक बंद कमरे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। इस पर पटेल ने भी टिप्पणी की है। पटेल ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के बीच मुलाकात में कुछ गलत है।

You might also like

Comments are closed.