‘यहां’ हो रही है प्लास्टिक की बारिश, वैज्ञानिकों ने दी आने वाले बुरे समय की चेतावनी  

यूएस : समाचार ऑनलाइन – ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव दुनियाभर में किसी-न-किसी रूप में देखने को मिल रहे हैं, जो की आने वाले बुरे समय की साफ-साफ चेतावनी लिए हुए हैं. कहीं सुनामी, बाढ़, तो कहीं बंजर जैसे हालात देखने को मिल रहे हैं, इसके बावजूद ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव कम करने के लिए जितने  ठोस कदम उठाना चाहिए, वो नहीं उठाएं जा रहे हैं. अब हाल ही में यूएस में ग्लोबल वार्मिंग का बेहद ही डराने वाला उदाहरण सामने आया है. यहाँ पर आसमान से पानी की साथ-साथ प्लास्टिक की बारिश हो रही है. इस बात का खुलासा होने के बाद साइंटिस्ट इसे मानवजाती के लिए बेहद ही अलार्मिंग स्थिति बता रहे हैं.

बारिश के पानी में पाए गए प्लास्टिक के कण

मिली जानकारी के अनुसार यूएस में हुई एक स्टडी में खुलासा हुआ है कि अब प्लास्टिक के कणों वाली बारिश हो रही है. यह सर्वे यूएस जियोलॉजिकल सर्वे और यूएस इंटीरियर डिपार्टमेंट के वैज्ञानिकों द्वारा संयुक्त तत्वावधान में किया गया है. वैज्ञानिकों ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि बारिश के साथ प्लास्टिक की भी बारिश हो रही है. बारिश में प्लास्टिक के कण मिले हुए हैं, जिन्हें नंगी आंखों से नहीं देखा जा सकता. इन्हें देखने के लिए माइक्रोस्कोप और डिजिटल कैमरे की जरूरत होती है.

फाइबर के रूप में था प्लास्टिक

सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक 90% सैंपल्स या नमूनों में प्लास्टिक के कण पाए गए हैं, ज्यादातर प्लास्टिक फाइबर के रूप में पाया गया. इन कणों में रंग-बिरंगी प्लास्टिक भी थी.

गाँव की तुलना शहर की बारिश में अधिक प्लास्टिक  

चौंकाने वाली बात तो यह है कि शहरी क्षेत्रों की बारिश में ग्रामीण क्षेत्रों की तुलना में ज्यादा प्लास्टिक के कण मिलें हैं. इतना ही नहीं, समुद्र के स्तर से लगभग 10 हजार फीट की ऊंचाई पर पहाड़ी क्षेत्र के सैंपल्स में भी प्लास्टिक के कण पाए गए हैं.

बढ़ रहा प्रदूषण मुख्य वजह

हालांकि, रिपोर्ट में स्पष्ट निष्कर्ष नहीं निकल पाया कि, बारिश के पानी में प्लास्टिक कहां से आया? लेकिन वैज्ञानिकों ने इस बात को भी नही नकारा है कि, यह दुनिया में बढ़ रहें प्रदूषण का ही परिणाम है. दुनियाभर में बढ़ रहा प्लास्टिक का इस्तेमाल एक घातक रूप ले रहा है, जिससे जल, वायु, हवा, मिट्टी आदि प्रदूषित हो रहे हैं.

लोग हर हफ्ते कहा रहे हैं 5 ग्राम प्लास्टिक

बता दे कि इससे पहले दक्षिणी फ्रांस में भी बारिश के साथ प्लास्टिक के कणों की बारिश हुई थी. एक अन्य स्टडी में सामने आया है कि, लोग 7-8 दिनों में लगभग 5 ग्राम प्लास्टिक खा जाते हैं, जो कि एक क्रेडिट कार्ड के वजन के बराबर है.

You might also like

Comments are closed.