Pimpri Crime News | गर्भवती प्रेमिका का मैंने गला दबाया, मुझे दस वर्षों से नींद नहीं आ रही है; हत्या का सच सामने आया

हत्या का सच सामने आया

पिंपरी (Pimpri News), 15 जुलाई : (Pimpri Crime News) उसका चेहरा मेरी आंखों के सामने से हट नहीं रहा है हर रात मैं चौंक कर  उठ जाता  हूं।  पिछले दस वर्षों से मुझे पूरी नींद नहीं मिली है।  दस वर्ष पहले प्रेमिका की हत्या  (Murder) कर फरार हुए आरोपी ने गिरफ़्तारी (Arrest) के बाद पुलिस के सामने यह बात कबूल की है। गिरफ्तार आरोपी  का नाम किशोर लक्ष्मण घारे (Kishore Laxman Ghare) ( नि – डोने, तहसील – मावल ) है. जबकि दस वर्ष पहले चांदनी सत्यवान लांडगे (Chandni Satyawan Landge) (उम्र 22 वर्ष, नि – बलदेवनगर, पिंपरी ) नामक युवती  की हत्या (Murder) की गई थी।  पुलिस कमिश्नर कृष्ण प्रकाश (Krishna Prakash) से मिली जानकारी के अनुसार (Pimpri Crime News) आरोपी किशोर और मृतक चांदनी के बीच प्रेम संबंध था।  चांदनी के गर्भवती होने पर उसने किशोर पर शादी का दबाव बनाया।

 

इस बात से चिढ़े किशोर ने शादी के बहाने उसे ले जाकर उसकी हत्या (Murder) कर दी और शव को जंगल में फेंक दिया।  इसके बाद दस वर्षों में  वाकड पुलिस को  चांदनी (Chandni) की हत्या की जानकारी मिली।  इसके अनुसार किशोर को कब्जे ले लेकर पूछताछ की गई।  उसने कबूल किया है कि शादी के बहाने ले जाकर उसने चांदनी की हत्या कर दी।

 

चांदनी की हत्या (Murder) करने के बाद आरोपी किशोर को नींद नहीं आती थी. हमेशा चांदनी का चेहरा उसकी आंखों के सामने आ जाता था।  हर दिन सोते हुए वह चौंक  कर उठ जाता था।  उसने  कुछ समय पहले मारुंजी में सब्जी बेचने का काम शुरू किया था।

 

आखिर क्या घटना हुई (Pimpri Crime News)

 

पिंपरी (Pimpri) के बलदेवनगर में रहने वाली चांदनी लांडगे नमक युवती 2011 में घर से भाग गई थी।  प्रेमी किशोर के साथ वह लापता हो गई थी।  घर वालों ने अनुमान लगाया कि दोनों शादी कर फरार हो गए है।  चांदनी की मां ने चांदनी के मोबाइल पर लगातार संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन हर बार किशोर ने फ़ोन उठाया।  चांदनी की मां ने बेटी के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी।  पुलिस ने अनुमान लगाया कि दोनों शादी करके कही और रह रहे है।  इसके बाद यह जांच अटक गई।

 

जांच कैसे की गई

 

पुलिस अधिकारी संतोषराव पाटिल (Santosh Rao Patil) की नियुक्ति वाकड पुलिस स्टेशन (Wakad Police Station) में पुलिस इंस्पेक्टर के रूप में हुई।  कुछ मिसिंग मामलों की समीक्षा कर रहे थे तभी उन्हें चांदनी की मिसिंग केस में संदेह हुआ।  उन्होंने अपने कुछ मुखबिरों को इस काम में लगा दिया।

2 दिनों में मुखबिरों ने अच्छा काम किया और किशोर कहा सब्जी बेचता है इसकी जानकारी दी।  पुलिस (Police) ने किशोर को उठाया। पुलिस के एक दो सवालों के बाद ही किशोर सच उगलने लगा। उसने बताया कि चांदनी के साथ उसका प्रेम संबंध था।  इससे वह गर्भवती हो गई।  उसने शादी के लिए किशोर पर दबाव डालना शुरू कर दिया था।  इसलिए उसकी गला दबाकर हत्या (Murder) कर शव को मावल के जंगल में फेंक दिया था।

यह कार्रवाई पुलिस कमिश्नर कृष्ण प्रकाश, अपर पुलिस कमिश्नर रामनाथ पोकळे, डीसीपी आनंद भोईटे, सहायक पुलिस कमिश्नर श्रीकांत डिसले के मार्गदर्शन में सीनियर पुलिस इस्पेक्टर डॉ. विवेक मुगलीकर , पुलिस इंस्पेक्टर संतोष पाटिल, सुनील टोनपे, सहायक इंस्पेक्टर अभिजीत जाधव, अनिल लोहार, कर्मचारी बिभीषण कन्हेरकर, बाबजान इनामदार , बापूसाहेब धुमाल, राजेंद्र काले, दीपक भोसले, वंदु गिरे, विक्रम कुदल, प्रमोद कदम, सूरज सुतार, कौंतेय खराडे, कल्पेश पाटिल और सागर कोतवाल की टीम ने की।

 

 

Narendra Dabholkar Murder Case | डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या मामले में आरोपी विक्रम भावे को तत्काल जमानत

Maharashtra : औरंगाबाद के युवक की बड़ी उपलब्धि, 2500 अमेरिकी डॉलर का जीता पुरस्कार

Pune Jabalpur Trains | पुणे और जबलपुर के बीच साप्ताहिक सुपरफास्ट स्पेशल सेवा का विस्तार

 

 

 

You might also like

Comments are closed.