Pimpri Chinchwad | सेवा विकास बैंक में धोखाधड़ी के 2 और मामले उजागर

पिंपरी (Pimpri News), Pimpri Chinchwad | आर्थिक घोटालों (Financial Scam) के आरोपों में फंसे पिंपरी चिंचवड़ (Pimpri Chinchwad) के अग्रज दि सेवा विकास को ऑपरेटिव’ बैंक (The Seva Vikas Co-Operative Bank) में जमाकर्ताओं के साथ धोखाधड़ी (Fraud) के और दो मामले सामने आए हैं। बैंक के चेयरमैन, निदेशक मंडल और अधिकारियों के खिलाफ पिंपरी (Pimpri Police Station) और वाकड पुलिस थानों ( Wakad Police Station) में एक करोड़ से ज्यादा रुपए के गबन का मामला दर्ज हुआ है। वाकड थाने में 76 लाख रुपए और पिंपरी पुलिस थाने में 28 लाख 50 हजार 902 रूपये के गबन की शिकायत (Pimpri Chinchwad) दर्ज कराई गई है।
गौरतलब है कि सेवा विकास बैंक में 500 करोड़ से ज्यादा रुपयों का घोटाला (Scam) उजागर होने के बाद बैंक में प्रशासक की नियुक्ति की गई है। बैंक के चेयरमैन एड अमर मूलचंदानी (Adv Amar Moolchandani) समेत निदेशक मंडल के खिलाफ विभिन्न थानों में धोखाधड़ी (Fraud) के कई मामले दर्ज हैं। इसके बाद अब वाकड और पिंपरी थानों में नए से दर्ज हुए दो अन्य मामलों ने बैंक के निदेशक मंडल और प्रबंधन की दिक्कतें बढ़ा दी हैं। वाकड पुलिस थाने मे मयूर बालकृष्ण पेटकर (Mayur Balakrishna Petkar) (35, निवासी कालेवाडी, पुणे मूल निवासी सांगली) और वर्षा जितेंद्र कोकल (Varsha Jitendra Kokal) (54, निवासी पिंपरी, पुणे) ने पिंपरी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है।
वाकड थाने में दर्ज मामले के अनुसार 2012 से 2021 तक सेवा विकास बैंक (Seva Vikas Bank) में बचत खाता और फिक्स डिपॉजिट के समय समय पर आकर्षक ब्याज दरों की घोषणा कर पेटकर और उनके रिश्तेदारों को बैंक की कालेवाड़ी शाखा (Kalewadi Branch) में एफडी जमा कराने के लिए बाध्य किया गया। इसकी मियाद खत्म होने के बाद उनके बचत खाते में सारे पैसे ब्याज के साथ जमा होने की उम्मीद थी। मगर उनके पैसे न लौटाकर कुल 76 लाख रुपए का गबन किया गया।
पिंपरी पुलिस (Pimpri Police) के अनुसार, 2015 से 2021 के बीच सेवा विकास की पिंपरी वाघेरे शाखा (Pimpri Waghere Branch) में वर्षा कोकल और अन्य जमाकर्ताओं की मांग के अनुसार उनकी फिक्स डिपॉजिट के पैसे उपलब्ध कराना जरूरी था। मगर आरोपियों ने आपस में मिलीभगत कर बार-बार मांग करने के बाद भी उनके पैसे नहीं लौटाए और उनके 28 लाख 50 हजार 902 रुपये का गबन किया। जमाकर्ताओं के साथ धोखाधड़ी  (Fraud) और विश्वासघात करने को लेकर बैंक के निदेशक मंडल और अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

 

 

Pimpri Chinchwad | हम अजीतदादा के साथ कहते हुए पिंपरी में राष्ट्रवादी का आंदोलन

You might also like

Comments are closed.