पवना बांध 92% भरा, सालभर के पानी की चिंता दूर

नदी किनारे सतर्कता के आदेश

पिंपरी : समाचार ऑनलाईन – पिंपरी चिंचवड़ शहर और समस्त मावल तालुका की प्यास बुझाने वाले पवना बांध क्षेत्र में लगातार दमदार बारिश हो रही है। इसके चलते पवना बांध का जलसंचय 92 फीसदी तक पहुंच गया है। हालांकि यह गत साल की तुलना में 5.45 फीसदी से कम है। मगर इससे मावल और पिंपरी चिंचवड़वासियों के सालभर की पानी की चिंता दूर हो गई है। वहीं सिंचाई विभाग ने नदी किनारे रहनेवालों को सतर्कता बरतने के आदेश दिए हैं। पवना बांध में जलस्तर बढ़ने के बावजूद शहरवासियों को एक दिन की कटौती से राहत नहीं मिल सकी है। मनपा आयुक्त श्रावण हार्डिकर के बाद अब महापौर राहुल जाधव ने भी स्पष्ट कर दिया है कि बांध के शतप्रतिशत भरने तक कटौती रद्द नहीं की जाएगी।

इस साल मानसून के आगमन में विलंब हुआ है। बीते सप्ताह भर से पवना बांध क्षेत्र में मूसलाधार बारिश जारी है। बीते आज शाम 6 बजे तक पवना बांध क्षेत्र में 47 मिमी बारिश दर्ज हुई है। इसके बाद पवना बांध का जलसंचय 92 फीसदी तक पहुंच गया है। हालांकि गत साल इसी दिन तक बांध में 97.45 फीसदी पानी था। बांध क्षेत्र में इस साल के मौसम में अब तक 2018 मिमी बारिश दर्ज हुई है। गत साल यह आंकड़ा 2140 मिमी था। बांध में 92 फीसदी पानी भर गया है। इसके आगे होनेवाली बारिश के अनुसार बांध से पानी छोड़ने का नियोजन किया जाएगा। ऐसा अब किसी भी वक्त हो सकता है। इसके चलते सिंचाई विभाग ने पवना नदी किनारे रहनेवालों के लिए अलर्ट जारी किया है। पिंपरी चिंचवड़ मनपा ने भी दमकल, आपदा प्रबंधन और दूसरे विभागों को सतर्क रहने के आदेश दिए हैं।

15 अगस्त तक कटौती रद्द करने का फैसला

गत साल रिटर्न ऑफ मानसून यानी वापसी की बारिश पर्याप्त नहीं होने से जलस्तर घट गया। इसके चलते लोकसभा चुनाव के तुरंत बाद से शहर में एक दिन की पानी कटौती लागू कर दी गई। अब पवना बांध का जलस्तर बढ़ने से शहर में एक दिन की कटौती रद्द करने की मांग जोर पकड़ने लगी है। शिवसेना के सांसद श्रीरंग बारणे, पूर्व विपक्षी नेता दत्ता साने, राष्ट्रवादी कांग्रेस के वरिष्ठ नगरसेवक मोरेश्वर भोंडवे, भाजपा नगरसेवक संदीप वाघेरे आदि के बाद भाजपा शहराध्यक्ष व विधायक लक्ष्मण जगताप ने मनपा आयुक्त श्रावण हार्डिकर से एक दिन की पानी कटौती रद्द करने और पूर्ववत रोजाना जलापूर्ति करने की मांग की है। हालांकि मनपा आयुक्त हार्डिकर ने काफी पहले ही पवना बांध शतप्रतिशत भरने तक कटौती रद्द न करने की बात स्पष्ट कर दिया है। कटौती रद्द करने के मुद्दे पर मनपा मुख्यालय में एक बैठक होनी थी। मगर यह बैठक नहीं हुई। महापौर राहुल जाधव ने संवाददाताओं के साथ की गई बातचीत में कहा कि, बांध के शतप्रतिशत भरने तक कटौती रद्द नहीं की जाएगी। 15 अगस्त को पवना नदी का जलपूजन के बाद कटौती रद्द करने के बारे में फैसला किया जायेगा।

You might also like

Comments are closed.