मलेशिया में विमान जब्ती पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की खूब हुई थी बदनामी, अब उठा रहा ये कदम

कराची – पिछले हफ्ते मलेशिया ने पाकिस्तान के बोइंग 777 यात्री विमान को जब्त कर लिया था। जिससे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की खूब निंदा हुई थी। पाकिस्तान हंसी के पात्र बन गए थे। लोग कंगाल पाकिस्तान का मजाक उड़ा रहे थे। दरअसल पाकिस्तान ने विमान को वियतनामी कंपनी पेरेग्रीन एविएशन चार्ली लिमिटेड से लीज पर लिया था। हालांकि, राशि का भुगतान न करने पर जब्ती की कार्रवाई की गई।

इस मामले से पाकिस्तान का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खूब अपमान हुआ। हालांकि पाक ने अब किराया देने का फैसला किया है। पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस पेरेग्रीन एविएशन के चार्ली लिमिटेड के साथ एक आउट-ऑफ-द-कोर्ट सेटलमेंट में पहुंच गई है। पाकिस्तान के नागरिक उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान ने खबर की पुष्टि की है। उन्हें उम्मीद है कि लंदन की एक अदालत में अगली सुनवाई के दौरान विवाद सुलझ जाएगा।

जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस द्वारा भाड़े पर दिए गए विमान के रखरखाव के लिए पाकिस्तान ने 1.4 करोड़ डॉलर्स का भुगतान नहीं किया है। जिसके बाद विमान को मलेशियाई अदालत के आदेश पर क्वालालंपूर हवाई अड्डे पर जब्त कर लिया गया था। इस दौरान विमान में 172 यात्री और चालक दल सवार थे। मलेशिया में फंसे यात्रियों को तब संयुक्त अरब अमीरात और कतर से इस्लामाबाद लाया गया था। पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस और पाकिस्तानी दूतावास के कर्मचारियों ने भी अपने भोजन की व्यवस्था नहीं की। कुछ यात्रियों ने दावा किया कि उन्हें कुआलालंपुर हवाई अड्डे पर दो दिनों तक सोना पड़ा था।

इससे पहले पाकिस्तान ने कहा था कि कोरोना सहयोगी की वजह से संकट के मद्देनजर राशि नहीं चुकाई जा सकती है। पाकिस्तान ने मलेशियाई अदालत पर पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस की बात सुने बिना एकतरफा फैसला देने का भी आरोप लगाया। है जिससे यात्रियों को बेवजह परेशान होना पड़ा। पाकिस्तानी मंत्री ने संकेत दिया कि भुगतान करने के बाद बोइंग 777 पाकिस्तान पहुंच जाएगा।

इससे पहले, यह पता चला था कि पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के कई पायलटों के पास नकली लाइसेंस थे। कई देशों ने पाकिस्तानी पायलटों पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है।

You might also like

Comments are closed.