लिवेबल सिटी सर्वे के लिए मिले महज 44 हजार फीडबैक

पिंपरी : समाचार ऑनलाइन – केंद्र सरकार की ओर से महानगरों में रहने योग्य शहर यानी लिवेबल सिटी का सर्वेक्षण कराया जा रहा है। इसके तहत पिंपरी चिंचवड़ शहर के नागरिकों से भी फीडबैक लिया जा रहा है। हालांकि इस सर्वे को शहरवासियों से अल्प प्रतिसाद मिल रहा है। 25 लाख की आबादी वाले इस शहर में से अब तक मात्र 44 हजार फीडबैक ही मिल सके हैं। जून माह में इस सर्वे की रिपोर्ट जारी की जाएगी।
गत वर्ष से शहर में एक दिन छोड़ जलापूर्ति की जा रही है। शहर की प्यास बुझाने वाले पवना डैम में पर्याप्त जलसंचय रहने के बाद भी की जा रही इस कटौती से शहरवासियों में कड़ी नाराजगी व्याप्त है। इस नाराजगी का असर लिवेबल सिटी सर्वेक्षण के फीडबैक में भी नजर आ रहा है। इस सर्वे में कई लोगों ने निगेटिव फीडबैक दिए जाने की जानकारी सामने आई है। सर्वे को मिल रही कम तवज्जो के लिए भी पानी कटौती को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।
केंद्र सरकार के गृह निर्माण व शहरी विकास मंत्रालय द्वारा देशभर में लिवेबल सिटी का सर्वेक्षण कराया जा रहा है। इसमें देश के कुल 114 शहरों को शामिल किया गया है। गत वर्ष किये गए इस सर्वेक्षण में पिंपरी चिंचवड़ 69वें पायदान पर था। इस बार इस सर्वेक्षण में स्वच्छ भारत अभियान के सर्वेक्षण की भांति लोगों से फीडबैक लिया जा रहा है। इस सर्वे में विभिन्न प्रकार के 24 प्रश्न पूछे जा रहे हैं। 1 से 29 फरवरी तक यह सर्वेक्षण किया गया, जिसमें मात्र 44 हजार फीडबैक मिल सके हैं। हालांकि मनपा प्रशासन का दावा है कि इस सर्वे में कम से कम 20 लोगों से फीडबैक मिलने चाहिए थे, हमें दोगुने से भी ज्यादा मिले हैं।
You might also like

Comments are closed.