दिल्ली : नाले उगल रहे शव… हिंसा का एक और सच आया सामने, आस्पतालों में कई पोस्टमार्टम अभी बाकी, खुलेंगे कई राज

समाचार ऑनलाइन –  दिल्ली के गोकुलपुरी इलाके में रविवार सुबह नाले से शव बरामद होने के बाद लोग एक बार फिर सिहर उठे हैं। हालांकि पुलिस अभी इसे यह कहकर लोगों को शांत कराने में जुटी हुई है कि इस शख्स की दिल्ली हिंसा के दौरान ही मौत हुई थी, या इसकी मौत किसी दूसरी वजह से हुई है, इसकी जांच जारी है।  बता दें कि दिल्ली हिंसा भले ही थम गई हो लेकिन उत्तर-पूर्वी जिले से लाशों के मिलने का सिलसिला खत्म नहीं हो रहा है। आईबी अफसर अंकित वर्मा का शव भी नाले से मिला था। अक फौरी आकलन के अनुसार, दंगों के दौरान 87 लोग गोलियों का शिकार बने थे। इनमें मृतक और घायल शामिल हैं। वहीं 300 के करीब लोग ईंट-पत्थर, लाठी-डंडों, चाकू-तलवार और अन्य धारदार हथियारों से किए गए हमले में जख्मी हुए थे। पुलिस ने मृतकों और घायलों की अस्पतालों द्वारा तैयार मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर यह आंकड़ा जारी किया है।
dead-body-found_030120121829.jpg

छह शवों के पोस्टमार्टम बाकी
गुरु तेग बहादुर अस्पताल के सूत्रों के अनुसार, शनिवार को 11 शवों के पोस्टमार्टम किए गए। उनके मुताबिक अभी 6 लोगों के पोस्टमार्टम और होने बाकी हैं। इन 6 लोगों में 3 लोगों के शव की पहचान शनिवार को भी नहीं हो सकी। जिन शवों की पहचान नहीं हो पाई है, वह बुरी तरह जले हुए हैं। गौरतलब है कि हिंसा में अभी तक 42 की मौत हुई है इसमें से 38 के शव जीटीबी, तीन लोकनायक और एक जगप्रवेश पहुंचे थे। लोकनायक अस्पताल और जगप्रवेश में मौजूद शवों के पोस्टमार्टम हो चुके हैं।

आर्म्स एक्ट के 36 मामले दर्ज
हिंसा फैलाने के आरोप में पुलिस ने हथियारों के साथ करीब 40 लोगों को दबोचा है, जबकि आर्म्स एक्ट के तहत 36 मामले दर्ज किए हैं। पुलिस अब तक 39 हथियार भी बरामद कर चुकी है। इनमें 36 तमंचे और तीन पिस्टल शामिल हैं। वहीं, मौके से कारतूसों के करीब 75 खोखे बरामद हुए हैं। पुलिस ने अभी तक दर्जनभर जगहों पर छापेमारी कर पेट्रोल बम और बम बनाने का सामान बरामद किया है।

आठ जगहों से नमूने लिए
एसआईटी ने एफएसएल के साथ आठ दंगा प्रभावित इलाकों से सबूत जुटाए हैं। एसआईटी ने नमूने एकत्र करने के लिए एफएसएल केमिस्ट्री, बायोलॉजी, बैलिस्टिक, फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी टीम को बुलाया था। एसआईटी ने ताहिर हुसैन के घर की सघन जांच की है और भजनपुरा व गोकुलपुरी में आठ जगहों पर जाकर जांच की।

You might also like

Comments are closed.