निर्भया केस : जब निर्भया की मां की साड़ी पकड़कर फूट-फूटकर रोने लगी ‘इस’ दोषी की मां, बोलीं मेरे बेटे को…

नई दिल्ली : समाचार ऑनलाइन – निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों का नया डेथ वारंट कोर्ट ने जारी कर दिया है। अब इन्हें 1 फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी। इससे पहले निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी सुबह 7 बजे फांसी दी जानी थी, लेकिन दोषियों की दया याचिका लंबित होने से इसमें विलंब हो गया। चारों दोषियों में मुकेश सिंह, अक्षय ठाकुर, विनय शर्मा और पवन गुप्ता शामिल हैं। डेथ वारंट जारी होते ही निर्भया के परिवार, दोस्तों और वकीलों में खुशी की लहर दौड़ गई, वहीं दूसरी तरफ दोषियों के चेहरे पर चिंता की लकीर देखी जा रही है। तिहाड़ जेल में दोषियों ने खाना पीना छोड़ दिया है।

सुनवाई के दौरान जैसे ही अदालती कार्यवाही शुरू हुई, दोषी मुकेश की मां रोती हुई नम आँखों से बेटे के लिए गुहार लगाती नजर आई। दोषी मुकेश की मां निर्भया की मां के दरबार के कमरे में गई और उसकी साड़ी के कोने को पकड़ कर रोते हुए भीख माँगते लगी और बोलने लगी कि ‘मेरे बेटे को माफ कर दो, मैं उसकी जान की भीख माँगती हूँ …’ | इसपर निर्भया की मां की आंखों में भी आंसू आ गए। उन्होंने रोते हुए कहा कि “वो मेरी भी बेटी थी… उसके साथ जो हैवानियत हुई, मैं कैसे भूल जाऊं…? मैं इंसाफ के लिए सात साल से इंतज़ार कर रही हूं।” इनसब के बीच कोर्ट के शोर से नाराज होकर जज ने शांति बनाए रखने का आदेश दिया।

निर्भया के पिता ने कहा कि मेरे लिए यह त्योहार सा दिन है। दिल करता है सबके साथ खुशियां बांटना शुरू कर दूं। 16 दिसंबर 2012 से अबतक हम हर दिन तिल-तिलकर मरे हैं। बेटी के आखिरी लफ्ज हर रोज कानों में गूंजते थे। वहीं निर्भया की मां ने कहा कि सात साल के बाद आखिर बेटी को इंसाफ मिल गया। अब मौत भी आ जाए तो गम नहीं। हम बेटी को बता सकेंगे कि उसके गुनहगारों को सजा मिल गई है।

You might also like

Comments are closed.