नेहा सिंह राठौर पर महिलाओं की छवि बिगाड़ने का आरोप, जौनपुर में केस दर्ज

जौनपुर. ऑनलाइन टीम : भोजपुरी गाना ‘चला देखि आई जौनपुर के बीएड कॉलेज’ में अपमानजनक टिप्पणी को लेकर भोजपुरी गायिका नेहा सिंह राठौर पर एसीजेएम चतुर्थ की कोर्ट में वाद दर्ज हुआ है। आरोप है कि गाने में जिले में बीएड की पढ़ाई करने वाली लड़कियों – महिलाओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी से उनकी छवि बिगाड़ने की कोशिश की गई है। गाने की शैली और भाव भंगिमा का भी इस्तेमाल हुआ, इससे महिलाओं की गरिमा को नुकसान पहुंचा है। मामले की अगली सुनवाई 20 फरवरी को होगी।

जौनपुर के बरसठी के पूरेसवा निवासी रवि प्रकाश पाल, धनंजय तिवारी और प्रमोद यादव ने पिछले महीने रजिस्टर्ड डाक के जरिए नेहा को लीगल नोटिस भेजा था।  कहा है कि दिनांक 17 दिसंबर 2020 को वादी व गवाह धनंजय तिवारी व प्रमोद यादव ने गाना सुना। गाने में महिलाओं के बारे में नकारात्मक छवि समाज में प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया।

पब्लिसिटी स्टंट के लिए गाने में अनर्गल, बेबुनियाद, मिथ्या एवं आधारहीन शब्द प्रयोग किए गए हैं। जो कानूनन दंडनीय अपराध की श्रेणी में आते हैं। कोर्ट से एफआईआर दर्ज कराने की मांग की गई है। साथ ही नोटिस में 15 दिन के अंदर जौनपुरवासियों से लिखित में माफी मांगने और उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट करने को कहा गया था। जब गायिका की तरफ से कोई जवाब नहीं आया तो मानहानि के लिए कोर्ट में केस दाखिल करने की बात कही गई।  गाने में यहां से बीएड करने वाली महिलाओं के बारे में अपमानजनक शब्द कहे गए हैं। इससे महिलाओं की गरिमा गिरी है। वादकारियों को भी मानसिक कष्ट पहुंचा।

नेहा के किसी गाने को लेकर ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। इससे पहले इलाहाबाद विश्वविद्यालय पर आधारित एक गीत को लेकर भी बवाल हो चुका है। गाने में यूनिवर्सिटी के छात्रों को बमबाज और कट्टाबाज बताया गया था। बता दें कि कैमूर के रामगढ़ में एक गांव है जलदहां। यहीं के रमेश सिंह की बेटी है नेहा सिंह राठौर। उनके प्रशंसक आज की तारीख में 3 मिलियन से अधिक हो गए हैं।

You might also like

Comments are closed.