Nashik MNS | नासिक में मनपा चुनाव से पहले शिवसेना में फूट !

नासिक : Nashik MNS | राज्य में सत्तारूढ़ दल शिवसेना (Shiv Sena) जहां राज्य के अधिकांश मनपा (Municipal Corporation) पर कब्जा करने की तैयारी में है, वहीं नासिक जिले में मनसे (Nashik MNS) ने शिवसेना को बड़ा झटका दिया है। नासिक जिले के सैकड़ों पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे (Raj Thackeray) की मौजूदगी में मनसे का झंडा कंधे पर उठाया।

 

आगामी मनपा चुनाव (municipal elections) की पृष्ठभूमि पर राज ठाकरे सोमवार को नासिक पहुंचे थे। इस समय नासिक, त्र्यंबकेश्वर, इगतपुरी, सिन्नार समेत ग्रामीण क्षेत्रों के अन्य युवक मनसे में शामिल हो गए। प्रवेश करने वालों में शिवसेना भारी परिवहन सेना के जिला प्रमुख विश्वास तांबे पाटिल और अल्तमश शेख, उप जिला प्रमुख संदीप दलवी, शिवसेना उप-मंडल प्रमुख कैलास जाधव, पिछले चुनाव में हारे भाजपा उम्मीदवार याग्निक शिंदे, विकास काले, पूर्व संभाग प्रमुख तुषार मटाले और अन्य पदाधिकारी शामिल हैं।

 

मनसे की स्थापना के बाद नासिक के निवासियों ने इस पार्टी पर सबसे अधिक विश्वास दिखाया था। मनसे विधायक (MNS MLA) जिले से चुने गए और उन्हें मनपा में सत्ता भी मिली। हालांकि बाद में मनसे इस सत्ता को बरकरार नहीं रख पाई, लेकिन राज ठाकरे को नासिक जिले से काफी उम्मीदें हैं। इसलिए वे समय-समय पर जिले का दौरा करते हैं। इसका विजुअल इफेक्ट दिखने लगा है। राज्य में वर्तमान में तीन दलों की गठबंधन सरकार है। यदि स्थानीय चुनावों में यह बढ़त बनी रहती है, तो तीनों दलों के कई उम्मीदवार चुनाव के अवसर से चूक जाएंगे। इसलिए, उन्होंने पहले ही परीक्षण शुरू कर दिया है। कहा जा रहा है कि इसका फायदा मनसे को भी मिल रहा है।

 

दिखेगा बदलाव!

 

आगामी मनपा चुनाव में निश्चित तौर पर बदलाव देखने को मिलेगा। भ्रष्टाचार, बेरोजगारी और तीन अलग-अलग दिशाओं की ओर मुंह करनेवाली सरकार से जनता परेशान है। इसलिए आने वाले चुनावों में एक उम्मीद भरी तस्वीर बनेगी। राज ठाकरे में युवाओं का जुनून है। विभिन्न दलों के कार्यकर्ता प्रवेश कर रहे हैं। हम पार्टी को तोड़ने के लिए काम नहीं कर रहे हैं। मुंबई में सैकड़ों कार्यकर्ता भी मनसे में शामिल हो गए हैं, ऐसा मनसे नेता बाला नंदगांवकर (Bala Nandgaonkar) ने कहा है।

 

 

 

 

Sachin Vaze | निलंबन के समय भी मैं जांच करता था, चांदीवाल आयोग के सामने वाझे का खुलासा

 

Chandrakant Patil | भाजपा में जो-जो संयम रखते हैं, उन्हें ‘सब्र का फल मीठा है’ का अनुभव होता है- चंद्रकांत पाटिल

You might also like

Comments are closed.