Narayan Rane | नारायण राणे गिरफ़्तारी से बचेंगे या गिरफ़्तारी देंगे ? चिपलूण से आई बड़ी जानकारी 

चिपलूण (Chiplun News), 24 अगस्त : मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) को लेकर शर्मनाक बयान देना  केंद्रीय मंत्री नारायण राणे (Narayan Rane) को महंगा पड़ सकता है।  राणे के बयान  के मामले में मडाड़ और नाशिक में केस दर्ज किया गया है।  राणे (Narayan Rane) का  बयान   गंभीर है और उन्हें गिरफ्तार कर कोर्ट (Court) के समक्ष पेश करने का आदेश नाशिक पुलिस (Nashik Police) ने दिया है।  इसके बाद नाशिक पुलिस की टीम (Nashik Police Team) राणे की गिरफ़्तारी के लिए रवाना हो गई है।  राणे की जन आशीर्वाद यात्रा फ़िलहाल कोंकण में है।  आज चिपलूण में उनके यात्रा की शुरुआत होगी।  वही उन्हें गिरफ्तार (Arrest) किये जाने की आशंका है।

 

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) द्वारा देश के स्वतंत्रता दिवस पर बोलते हुए दिए गए बयान का संदर्भ देते हुए नारायण राणे ने विवादित बयान दिया था। नारायण राणे (Narayan Rane) द्वारा  शर्मनाक  बयान   देने के बाद महाड़ और नाशिक में उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया था।  उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री है।  वह संवैधानिक पद पर है।  ऐसे में उनके खिलाफ दिया गया बयान पुरे राज्य का अपमान करने वाला है।  इस तरह की शिकायत नाशिक (Nashik) शिवसेना (Shiv sena) के पदाधिकारी सुधाकर बड़गुजर ने दर्ज कराई  है।

चिपलूण से सामने आई बड़ी जानकारी

नाशिक पुलिस दवारा गिरफ़्तारी का आदेश जारी होने के बाद चिपलूण में हलचल शुरू हो गई है।  राणे फ़िलहाल चिपलूण में है।  ऐसा माना जा रहा है कि गिरफ़्तारी से बचने के लिए उन्होंने अपनी तरफ से प्रयास शुरू कर दिया है।  गिरफ़्तारी से बचने के लिए कौन सा क़ानूनी विकल्प का सहारा लिया जा सकता है इस पर राणे की लीगल टीम ने काम शुरू कर दिया है।

राणे को गिरफ्तार किया जाएगा क्या  ?

राणे की लीगल टीम दवारा गिरफ़्तारी से बचने का प्रयास शुरू हो गया है।  इस में भाजपा (BJP) का क्या रुख रहता है इस पर सबकी नज़रें टिकी हुई है।  राणे की गिरफ़्तारी से राजनीतिक फायदा मिलेगा या गिरफ़्तारी से बचने के लिए पूरी ताकत झोक दी जाएगी। इसमें से कौन सा विकल्प भाजपा स्वीकार करती है,  इसे लेकर भी राजनीतिक चर्चा (political discussion) शुरू हो गई है।
राणे के खिलाफ कौन सी धाराएं लगाई गई

नारायण राणे के खिलाफ धारा धारा 500, 502, 505, 153 (अ ) के तहत केस दर्ज किया गया है।  राणे के बयान से समाज में  द्वेष, तनाव पैदा हो सकता है।  कानून-व्यवस्था (Law and order) की स्थिति  खड़ी हो सकती है।  इस तरह की शिकायत दर्ज कराई गई है।  इसके बाद नाशिक पुलिस ने राणे की गिरफ़्तारी का आदेश जारी किया। राणे राज्यसभा सांसद है।  उनकी गिरफ़्तारी के वक़्त प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश दिए गए है। ऐसे में राणे की गिरफ़्तारी के बाद इससे संबंधित जानकारी राज्यसभा (Rajya Sabha) के  सभापति और उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू (Venkaiah Naidu) को दी जाएगी।
नारायण राणे केंद्रीय मंत्री है।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के मंत्रिमंडल (Cabinet) में उन्हें सूक्ष्म, लघु और मध्यम उधोग के विभाग की जिम्मेदारी दी गई है।  मंत्री पद की जिम्मेदारी संभालते हुए जन आशीर्वाद यात्रा निकालने का आदेश उन्हें पार्टी की तरफ से मिली है।  इसलिए वह फ़िलहाल कोंकण में है।  कोंकण को शिवसेना का गढ़ माना जाता है।
इस गढ़ में सेंध लगाने के लिए भाजपा दवारा  राणे को केंद्रीय मंत्री पद (central ministerial post) का ताकत दिए जाने की बात कही जा रही है।  ऐसे में राणे की गिरफ़्तारी का मुद्दा काफी गर्माएगा। इससे भाजपा और शिवसेना का संघर्ष और बढ़ सकता है।

 

 

 

Anil Deshmukh | अनिल देशमुख की फिर बढ़ी मुश्किलें, दो साथियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

Maharashtra Politics | 14 महीने तक मंत्रालय नहीं आने वाले मुख्यमंत्री उत्कृष्ट कैसे हो गए ? भाजपा का हल्लाबोल