Nagpur | नागपुर में 50 प्राइवेट हॉस्पिटल मिलकर बनाएंगे  ऑक्सीजन प्लांट 

नागपुर (Nagpur News), 18 सितंबर : Nagpur | कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी महसूस की गई।  अन्य राज्यों से ऑक्सीजन मंगाने की नौबत आ गई थी।  संभावित तीसरी लहर में यह स्थिति पैदा नहीं हो  इसलिए विदर्भ हॉस्पिटल एसोसिएशन (Vidarbha Hospital Association) के 50 सदस्यों ने एकसाथ आकर बुटीबोरी (Nagpur) में ऑक्सीजन प्लांट (oxygen plant) तैयार करने का निर्णय लिया है।  जल्द ही यह प्लांट हॉस्पिटल की सेवा से जुड़ जाएगा।

 

कोरोना की दूसरी लहर काफी भयावह थी।  95% मरीजों को ऑक्सीजन की जरुरत पड़ी थी।  एक हॉस्पिटल (Hospital) को हर मिनट में कम से कम 10 और अधिक से अधिक 70 लीटर तक ऑक्सीजन की जरुरत पड़ी थी।  178 मैट्रिक टन तक ऑक्सीजन की जरुरत पड़ी थी। अन्य राज्यों से ऑक्सीजन मंगाने के लिए रेलवे और विमान की सेवा लेनी पड़ी थी।  लेकिन महीने भर में मरीजों की संख्या कम होने से बड़ा खतरा टल गया।  ऑक्सीजन की कमी महसूस न हो इसलिए कोर्ट (Court) ने 50 व उससे अधिक बेड्स वाले प्राइवेट हॉस्पिटल को खुद का ऑक्सीजन प्लांट तैयार करने का निर्देश दिया था।  लेकिन जगह की कमी और हर प्राइवेट हॉस्पिटल (private hospital) के लिए व्यावहारिक दृष्टि से संभव नहीं था।  इसका रास्ता निकालने के लिए विदर्भ हॉस्पिटल एसोसिएशन के सदस्यों ने एक साथ आकर बुटीबोरी एमआईडीसी (Butibori MIDC) में माइक्रो, स्मॉल और मिडिल उधोग मंत्रालय की मदद से ऑक्सीजन प्लांट तैयार करने का निर्णय लिया है।

इस वर्ष प्रोजेक्ट शुरू होने की संभावना

वीएचए के अध्यक्ष डॉ. अरबट (Dr. Arbat) ने कहा कि यह प्रोजेक्ट इस वर्ष ही शुरू होने की उम्मीद है।  एक बार प्रोजेक्ट शुरू होने के बाद प्राइवेट हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी को ख़त्म कर देगा।   वीएचए के समन्वयक  डॉ. बी के मुरली (Dr. BK Murali) ने कहा कि जगह की कमी के कारण हॉस्पिटल परिसर में प्लांट तैयार करना मुश्किल है।  खर्च भी होगा।  इसलिए हमने मिलकर प्लांट बनाने का निर्णय लिया है।

एमएसएमइ दवारा 80% सब्सिडी

डॉ. मुरली ने बताया कि ऑक्सीजन प्लांट का कुल खर्च का 20% (करीब – 12. 5 करोड़ रुपए ) का योगदान सदस्यों ने जमा किया है। जबकि एमएसएमइ से 80% सब्सिडी मिलेगी।
150 हॉस्पिटल को होगी मदद

  वीएचए के डॉ. आलोक उमरे ने बताया कि यह प्लांट बनाने के लिए 50 सदस्यों ने पहल की है।  इस हॉस्पिटल से 150 हॉस्पिटल को ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।  शेष ऑक्सीजन अन्य हॉस्पिटल को दिया जाएगा।  हर दिन 1700 जम्बो सिलेंडर ऑक्सीजन की मदद इस प्लांट से होगी।

 

 

 

Pune Police Commissionerate | पुणे पुलिस आयुक्तालय सिपाही पद के लिए 5 अक्टूबर को लिखित परीक्षा

Pune Division Deputy Collectors Transfer | पुणे, सातारा, सांगली, सोलापुर और कोल्हापुर जिले में उपजिलाधिकारी दर्जा के 16 अधिकारी का ट्रांसफर

You might also like

Comments are closed.