Mumbai | मुंबई महिलाओं के लिए दुनिया में सबसे सुरक्षित शहर, शिवसेना का पलटवार 

मुंबई (Mumbai News), 13 सितंबर : पश्चिम उपनगर (Mumbai) साकीनाका परिसर में घटी बेहद अमानवीय घटना से समाज सहम गया है। एक विकृत परप्रांतीय ने 32 वर्षीय महिला के साथ बलात्कार (Rape) कर निर्दयता से मारपीट (Mumbai) कर उसकी हत्या (Murder) कर दी।  गुप्तांग में गंभीर जख्म होने की वजह से महिला की 33 घंटे में मौत हो गई।  इसे लेकर विरोधी दलों ने ठाकरे सरकार (Thackeray Government) पर जमकर हमला बोला है।  भाजपा (BJP) ने कहा है कि राज्य में कानून व्यवस्था (law and order) नहीं बची है। इस पर शिवसेना (Shiv sena) ने सामना में अपनी बात रखी है।

 

मुंबई (Mumbai) सहित महाराष्ट्र (Maharashtra) में कानून का राज्य है।  विरोधियों दवारा साकीनाका बलात्कार मामले को लेकर कितना भी हो हल्ला मचाये उसके बावजूद कानून के राज की जड़े नहीं हिलेगी। विरोधी पक्ष नेता कहते है उसके अनुसार कुकर्मी को फांसी की सजा होगी।  किस मुद्दे को लेकर राजनीति करनी है इसका ध्यान रखना चाहिए। साकीनाका मामले (Sakinaka case) में आंखों में आंसू आ जाना मन की संवेदनशीलता है।  लेकिन इसे लेकर डर फैलाने से मामले की गंभीरता कम होती है।
पुलिस (Police) को अपना काम करने दे।  इसके बाद भी किसी को साकीनाका मामले की फाइल ईडी (ED) आदि को सौंपना हो तो कौन रोकेगा ?

मुंबई महिलाओं के लिए अत्यंत सुरक्षित शहर

भाजपा ने इस मामले में विरोधी दल का जो रुख अपनाया है वह सही है।  मुंबई-महाराष्ट्र (Mumbai-Maharashtra) महिलाओं के लिए किस तरह से सुरक्षित नहीं है वह अब बता रहे है।  साकीनाका घटना से सबको झटका लगा है फिर भी मुंबई-महाराष्ट्र महिला के लिए सबसे सुरक्षित है।  इसे लेकर सदेह करने की कोई वजह नहीं है।

फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में मामला चलाया जाए – फडणवीस

इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने कहा है कि साकीनाका परिसर में बलात्कार की घटना मानवता को कलंकित करने वाली घटना है।  इस तरह की घटना बार-बार होती रही तो असुरक्षा की भावना पैदा होगी।  इसलिए कुकर्मी के खिलाफ फ़ास्ट ट्रैक  कोर्ट में मामला चलाकर उसे फांसी की सजा दी जानी चाहिए।  इस मामले में फडणवीस ने राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) को एक सलाह भी दी है।  राज्य के मुख्यमंत्री इस मामले में व्यक्तिगत रूप से ध्यान देकर तुरंत मुंबई हाईकोर्ट (Mumbai High Court) के चीफ जस्टिस से बोलकर के स्पेशल फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट की स्थापना करके इस मामले में फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट (Fast Track Court) में चलाने का प्रयास करे।  साथ ही पुलिस (Police) को इस मामले में शामिल आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करना चाहिए।

 

 

 

Pune | पुणे के बावधन बुद्रुक में बिग बास्केट कंपनी के गोदाम में भीषण आग; लाखों रुपए का नुकसान

Mumbai-Pune Expressway | मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे पर कार्यान्वित होगा इंटेलीजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम

You might also like

Comments are closed.