शिमला, मनाली, डलहौजी में और अधिक बर्फबारी

शिमला, 29 जनवरी (आईएएनएस)| हिमाचल प्रदेश के शिमला, मनाली और डलहौजी में बुधवार को और अधिक बर्फबारी हुई, जिससे पर्यटन स्थलों का नजारा और खूबसूरत हो गया लेकिन राज्य के कई हिस्सों में सड़कों पर बर्फ का ढेर जमा होने के कारण यातायात बाधित हुआ। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने यहां आईएएनएस को बताया कि हिमपात और बारिश के बाद कई स्थानों पर तापमान हिमांक बिंदु से नीचे रहा।

यहां से लगभग 250 किलोमीटर दूर कल्पा में तापमान शून्य से 3.5 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया, जबकि पिछले 24 घंटों में 26.4 सेंटीमीटर बर्फबारी दर्ज हुई।

राज्य में सबसे ठंडा, लाहौल-स्पीति जिले का मुख्यालय केलांग रहा, जहां तापमान शून्य से 5.7 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। शिमला में तापमान शून्य से एक डिग्री सेल्सियस नीचे और धर्मशाला में 1.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शिमला में 10.2 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई जबकि धर्मशाला में 49.6 मिलीमीटर बारिश हुई।

मनाली में तापमान शून्य से 1.8 डिग्री सेल्सियस नीचे और 8 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई।

अधिकारी ने कहा कि शिमला के आसपास के स्थलों कुफरी, फागू और नारकंडा में सामान्य से भारी बर्फबारी हुई। कुफरी में राज्य का सबसे अधिक 45 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई। शिमला के कई इलाकों जैसे माल रोड, रिज, यूएस क्लब और जाखू हिल्स में हिमपात देखा जा सकता है।

एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि किन्नौर जिला और शिमला के नगरों जैसे कि कुफरी, नारकंडा, जुब्बल, कोटखाई, कुमारसैन, खड़ापत्थर, रोहड़ू और चोपाल का बर्फबारी के कारण बाकी क्षेत्रों से संपर्क टूट गया है।

अधिकारी ने कहा कि ऊपरी शिमला में नगरों का सड़क संपर्क बुधवार शाम तक बहाल होने की संभावना है।

अधिकारियों ने कहा कि खराब मौसम ने किन्नौर, शिमला, चंबा, मंडी, कुल्लू और सिरमौर जिलों की ऊंची पहाड़ी इलाकों में सड़क नेटवर्क को प्रभावित किया है और उन्हें फिर से खोलने के प्रयास किए जा रहे हैं।

मौसम अधिकारी ने बताया कि गुरुवार तक बारिश और बर्फबारी जारी रहने की संभावना है।

You might also like

Comments are closed.