Loading...

विधायक सुनील शेलके ने दिखाया एक और करिश्मा

भाजपा के रेडीमेड प्रत्याशी को 'फोड़कर' जिताया निर्विरोध

Loading...
पिंपरी। सँवाददाता : विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड वोटों से बाजी मारने के बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस के विधायक सुनील शेलके लगातार भाजपा के मावल के गढ़ को धराशायी करने में जुटे हैं। भाजपा के सत्ता वाली तलेगांव दाभाड़े नगरपालिका के एक उपचुनाव में भाजपा को मात देने के बाद विधायक शेलके ने दूसरे उपचुनाव में भाजपा को शह और मात एकसाथ दी है। प्रभाग नँबर एक ब के उपचुनाव के लिए शुक्रवार को नामांकन पत्र दाखिल करने की मियाद थी। भाजपा की ओर से ‘तेल’ लगाकर तैयार बैठे प्रत्याशी निखिल भगत को ही राष्ट्रवादी कांग्रेस में शामिल कर लिया और उसे टिकट देकर निर्विरोध चुनकर आने का रास्ता आसान बना लिया गया। विधायक शेलके और राष्ट्रवादी के वरिष्ठ नेता किशोर आवारे द्वारा ऐन मौके पर भाजपा के ‘रेडीमेड’ प्रत्याशी फोड़कर अपने में शामिल कर लिए जाने से भाजपा के समक्ष हाथ मलते रह जाने के अलावा कोई चारा न रहा। इस शिकस्त के बाद तलेगांव दाभाड़े नगरपालिका में भाजपा का बहुमत भी खत्म होने की कगार पर आ गया है।
Loading...
Loading...
विधायक सुनील शेलके के इस्तीफे के बाद रिक्त हुई तलेगांव दाभाड़े नगरपालिका के नगरसेवक की सीट पर राष्ट्रवादी काँग्रेस- काँग्रेस आघाडी प्रणित जनसेवा विकास समिति और शहर सुधार व विकास समिति के प्रत्याशी ने जीत हासिल की है। इस उपचुनाव के लिए भाजपा के पूर्व विधायक बाला भेगड़े ने प्रतिष्ठा दांव पर लगा दी थी। इसके बाद विधायक शेलके के चचेरे भाई संदीप शेलके, जिन्होंने अपने भाई के साथ भाजपा के नगरसेवक पद से इस्तीफा दिया था, की रिक्त सीट के लिए उपचुनाव घोषित हुआ। प्रभाग क्रमांक 1 ब के उपचुनाव के लिए आज नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम मियाद तय थी। भाजपा नगरपालिका में अपनी सत्ता को बनाये रखने के लिए इस उपचुनाव को जीतने की जद्दोजहद में जुटी थी। मगर राष्ट्रवादी कांग्रेस के विधायक सुनील शेलके और वरिष्ठ नेता किशोर आवारे ने भाजपा के मनसूबों पर पानी फेर दिया। राष्ट्रवादी की ओर से इच्छुक रहे नेताओं को समझा-बुझाकर भाजपा जिस प्रत्याशी के बूते यह उपचुनाव जीतने की तैयारी में थी उस प्रत्याशी को फोड़कर ऐन वक्त पर राष्ट्रवादी में शामिल कर लिया।

राष्ट्रवादी काँग्रेस के तालुकाध्यक्ष बबनराव भेगडे, संत तुकाराम चीनी मिल के उपाध्यक्ष बापूसाहेब भेगडे, वरिष्ठ नेता किशोर आवारे, गणेश खांडगे, गणेश काकडे, काँग्रेस के शहराध्यक्ष यादवेंद्र खलदे के प्रयासों से भाजपा के निखिल भगत को राष्ट्रवादी में शामिल कर लिया। इसके बाद दोनों कांग्रेस प्रणीत जनसेवा विकास समिति और शहर सुधार व विकास समिति की ओर से प्रत्याशी घोषित कर भगत का नामांकन दाखिल किया गया। यह सब ऐन मौके पर होने से भाजपा के सामने हाथ मलते रह जाने के अलावा कोई चारा नहीं रह गया। नतीजन भगत का एकमात्र नामांकन दाखिल हुआ और उनका निर्विरोध चुने जाने का रास्ता आसान बना। लगातार दूसरे उपचुनाव में करारी शिकस्त मिलने से तलेगांव दाभाड़े नगरपालिका में भाजपा का बहुमत खत्म होने की कगार पर आ गया है। उसके लिए यह उपचुनाव जीतना हर हाल में जरूरी था। मगर विधायक शेलके और राष्ट्रवादी कांग्रेस के अन्य नेताओं की कूटनीति से भाजपा के पास ऐन वक्त पर कोई प्रत्याशी ही नहीं रह गया।

Loading...

Comments are closed.