इंदापुर में मंत्री भरणे और पूर्व मंत्री पाटिल आमने-सामने

इंदापुर: इंदापुर तालुके के कर्मयोगी शंकरराव पाटिल सहकारी चीनी कारखाने के पंचवार्षिक चुनाव कार्यक्रम की घोषणा की गई है। मंगलवार 23 फरवरी से आवेदन देने की शुरुआत हो गई है। 1 मार्च को नामांकन भरने की अंतिम तारीख है। 27 मार्च को संचालक के पद के लिए प्रत्यक्ष मतदान होगा। इसलिए इंदापुर में ग्राम पंचायत चुनाव के बाद फिर से भरणे-पाटिल आमने सामने आ गये हैं।

1 मार्च को नामांकन की अंतिम तिथी है। इसके बाद 2 मार्च को आवेदन की जांच की जाएगी। 17 मार्च तक आवेदन वापस लिया जा सकता है। इंदापुर, कालठाण, पलसदेव, भिगवण, शेलगांव आदि पांच वर्ग के प्रत्येक के 3 संचालक व ख़ानाबदोश जाति वर्ग का 1, पिछड़ी जाति के  1, अनुसूचित जाति के 1, महिला वर्ग 2, ब वर्ग का 1 कुल मिलाकर 21 संचालक मंडल के लिए चुनाव होगा।

कारखाने की स्थापना से लेकर अभी तक संस्थापक स्व. शंकरराव पाटिल घराने के पास निर्विवाद सत्ता है। वर्तमान अध्यक्ष पूर्व मंत्री हर्षवर्धन पाटिल के पास कारखाने का नेतृत्व है। राष्ट्रवादी कांग्रेस के माध्यम से सत्ता परिवर्तन के लिए हमेशा प्रयत्न किया गया, लेकिन हर्षवर्धन पाटिल ने अपने हाथ में ही सत्ता रखी। हालांकि चुनाव में राज्य मंत्री दत्तात्रय भारणे, राष्ट्रवादी के जिलाध्यक्ष प्रदीप गारटकर की भूमिका महत्वपूर्ण है।

Comments are closed.