मुंबई के गोरेगांव में रिश्वतखोर अधिकारी के घर में मिली करोड़ों की रकम, साढ़े तीन करोड़ की रकम जब्त 

 

मुंबई, 26 मई : घर की रिपेरिंग के लिए 50 हज़ार रुपए की रिश्वत मांगने के मामले में एंटी क्रप्शन ब्यूरो के जाल में फंसे आरे दूध डेयरी के सीईओ नथु विट्ठल राठोड (42 ) के घर से 3 करोड़ 46 लाख रुपए का कैश बरामद हुआ है।  गैर क़ानूनी रूप से जमा किये गए इस रकम को लेकर एसीबी जांच कर रही है।

एसीबी से मिली जानकारी के अनुसार शिकायतकर्ता को अपने घर की रिपेरिंग करानी थी. इसके लिए उसने राठोड से मुलाकात कर आवेदन दिया। राठोड के पास गोरेगांव दूध कॉलोनी और उपयुक्त प्रशासन का अतिरिक्त कार्यभार है।  उस वक़्त राठोड ने क्लर्क अरविंद तिवारी से मिलने के लिए कहा।  तिवारी ने शिकायतकर्ता से 50 हज़ार रुपए की रिश्वत मांगी।  शिकायतकर्ता ने एसीबी से इसकी शिकायत कर दी।  सोमवार को एसीबी ने जाल बिछाकर तिवारी को रंगेहाथों पकड़ लिया।  पूछताछ में इसमें राठोड के शामिल होने की जानकारी सामने आई।  इसके बाद दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया।  मंगलवार को एसीबी ने राठोड के घर की तलाशी ली।  इस दौरान एसीबी को घर में 3 करोड़ 46 लाख रुपए मिले।
अब एसीबी राठोड के परिवार के प्रॉपर्टी की जांच कर रही है।  14 मई से राठोड एसीबी के रडार पर था।  उसने रिश्वत मांगी थी यह बात साफ हो गई है।  24 मई को एसीबी ने जाल बिछाया था। बातचीत में जो तय हुआ उसके अनुसार शिकायतकर्ता पैसे देने को तैयार हो गया।  राठोड ने शिकायतकर्ता को गोरेगांव दूध डेयरी के कार्यालय में तिवारी से मिलने के लिए कहा था।  इसी दौरान रिश्वत की रकम स्वीकार की गई।
2016 से आरे में कार्यरत 
नथु विट्ठल राठोड 2106 से आरे में कार्यरत था।  नियम के अनुसार  तीन साल में ट्रांसफर होना अपेक्षित होने के बावजूद उसे ट्रांसफर रुकवाने में सफलता मिल रही थी। यह जानकारी एक अधिकारी ने दी है।
You might also like

Comments are closed.