मनपा में विपक्ष का सत्तादल के साथ ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’

उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने राष्ट्रवादी के नेताओं व नगरसेवकों को लगाई फटकार
पिंपरी। करीबन 25 लाख रुपए का मूर्ति खरीदी में कथित घोटाले के आरोप से राष्ट्रवादी कांग्रेस को पिंपरी चिंचवड़ मनपा की सत्ता से हाथ धोना पड़ा। अब जबकि सत्तादल भाजपा के कार्यकाल में आये दिन भ्रष्टाचार के नए नए और बड़े मामले सामने आ रहे हैं। तब विपक्ष में बैठे राष्ट्रवादी कांग्रेस के नेता व नगरसेवक सत्तादल के साथ ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’ का राग अलाप रहे हैं। इस पर बीती शाम राष्ट्रवादी के नेताओं और नगरसेवकों की बैठक में उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कड़ी फटकार लगाई है। सत्तादल के साथ मिलीभगत को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, इन शब्दों में उन्होंने अपने नेताओं व नगरसेवकों को लताड़ा।
पिंपरी चिंचवड़ मनपा के आगामी चुनाव की पृष्ठभूमि पर उपमुख्यमंत्री अजित पवार यांनी पिंपरी, चिंचवड, भोसरी विधानसभा क्षेत्रवार राष्ट्रवादी कांग्रेस के नगरसेवकों, प्रमुख पदाधिकारी के साथ एक बैठक की। पुणे के नए सर्किट हाऊस में हुई इस बैठक में युवा नेता पार्थ पवार की उपस्थिति उल्लेखनीय रही। बैठक में विधायक अण्णा बनसोडे, पार्टी के शहराध्यक्ष संजोग वाघेरे, विपक्ष के नेता राजू मिसाल, पूर्व विधायक विलास लांडे, वरिष्ठ नगरसेवक नाना काटे, योगेश बहल, भाऊसाहेब भोईर, मंगला कदम, प्रशांत शितोले, मयूर कलाटे, महिला अध्यक्षा वैशाली कालभोर, संजय वाबले, श्याम लांडे, मोरेश्वर भोंडवे समेत अन्य नगरसेवक व प्रमुख पदाधिकारी उपस्थित थे।
बैठक में अजित पवार ने कहा, मनपा में सत्तादल भाजपा के भ्रष्टाचार की कई शिकायतें मिल रही हैं। इसके बावजूद विपक्ष के नाते राष्ट्रवादी के खेमे से आवाज नहीं उठाई जा रही है। सत्तादल के साथ मिलीभगत को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सभी लोग मिलकर भाजपा के गलत कामों और भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाएं और आक्रामक रुख अपनाए। 2022 के मनपा चुनाव में हर हाल में राष्ट्रवादी की सत्ता आनी चाहिए, इस लिहाज से अभी से जुट जाएं। आनेवाला चुनाव द्विसदस्यीय प्रणाली से होना लगभग तय है। इस दृष्टि से तैयारी में जुट जाएं। विपक्ष के नेता को चाहिए कि वे समय निकालें, भाजपा के भ्रष्टाचार को प्रमाण के साथ उजागर करें औऱ उसे जनता के समक्ष पेश करें। पिछले चुनाव में जो नेता पराजित हुए हैं उन्हें बल दें और सभी लोग मिलजुलकर अभी से चुनाव की व्यूहरचना बनाने में जुट जाएं।
You might also like

Comments are closed.