Maharashtra : एक और खोखला वादा… CM उद्धव ठाकरे पर जमकर बरसे BJP नेता नीलेश राणे

मुंबई : ऑनलाइन टीम – चक्रवात Tauktae ने पिछले हफ्ते कोंकण तट पर दस्तक दी थी। सभी की निगाहें इस बात पर टिकी थीं कि राज्य सरकार प्रभावित क्षेत्रों को क्या सहायता मुहैया कराएगी। आखिर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कल अहम ऐलान किया। उन्होंने कहा चक्रवात के पीड़ितों की तरह ही प्रभावित इलाकों की मदद की जाएगी। लेकिन अभी तक कोई ठोस मदद नहीं दी गई है।

अब तूफान से हुए नुकसान को लेकर राज्य सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच खींचतान में उलझा हुआ है। कुछ दिन पहले राज्य में तूफान आया था। कोंकण तट पर अधिकांश नागरिक बुरी तरह प्रभावित हुए। बहुतों के घरों से चिट्ठियाँ उड़ीं। घर क्षतिग्रस्त हो गया। उसके बाद सभी नुकसान की समीक्षा के लिए मुख्यमंत्री के साथ प्रशासन के अधिकारी पहुंचे थे। मामले को लेकर पूर्व सांसद और बीजेपी सचिव नीलेश राणे ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधा है।

नीलेश राणे ने अपने ट्वीट में कहा कि, एक और खोखला वादा… खोखले वादों का अगर धंधा होता तो पूरी दुनिया में उद्धव ठाकरे की फैक्ट्रियां होता। 10 दिन बाद भी कुछ नहीं दिया गया। कई गांवों में अब भी रोशनी नहीं है, कच्चा माल नहीं है। आगे उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि ठाकरे सरकार केवल ज्योतिषियों की तरह तारीखें दे रही है।

उद्धव ठाकरे ने क्या कहा?

मुंबई के सात जिलों, मुंबई उपनगरों, ठाणे, पालघर, रायगढ़, सिंधुदुर्ग और रत्नागिरी के अलावा बाढ़ से प्रभावित अन्य जिलों को भी सहायता दी जाएगी। आपदा राहत राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कोष और राज्य आपदा प्रबंधन कोष के मानदंडों से परे जाकर प्रदान की गई थी। यहां भी वही मापदंड लागू होंगे। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि कोई भी मदद से वंचित नहीं रहेगा।

चक्रवात से हुआ भारी नुकसान –

– रत्नागिरी जिले में 695 गांव प्रभावित हुए। 2500 हेक्टेयर में लगी फसल को नुकसान पहुंचा है। 26,358 नागरिक प्रभावित हुए। 126 स्कूल, कॉलेज, सरकारी भवन क्षतिग्रस्त हो गए। 790 पेड़ गिरे। 1626 बिजली के खंभे गिरे। 4,359 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए और 11 घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। दो की मौत।

– रायगढ़ जिले में 1820 गांव प्रभावित हुए। 1550 हेक्टेयर में लगी फसल को नुकसान पहुंचा है। 27,798 नागरिक प्रभावित हुए। 11,391 घर क्षतिग्रस्त हुए। सरकारी भवन, स्कूल, कॉलेज और 1353 भवन आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए। 1032 बिजली के पोल गिरे चार लोगों की मौत हो गई।

– सिंधुदुर्ग जिले में 640 गांव प्रभावित हुए हैं। 6,652 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए और 23 घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। 3,375 हेक्टेयर में फसलों को नुकसान पहुंचा। 15,644 नागरिक प्रभावित हुए। 225 सरकारी भवन, स्कूल, कॉलेज क्षतिग्रस्त हुए। 21 हजार 890 पेड़ गिरे। 1281 बिजली के पोल गिरे तीनों की मौत हो गई।

You might also like

Comments are closed.