Maharashtra | अनिल परब के बाद अब शिवसेना नेता पूर्व सांसद आनंदराव अडसुल को ED का समन 

अमरावती : Maharashtra | शिवसेना नेता और अमरावती के पूर्व सांसद पूर्व मंत्री आनंदराव अडसुल (Anandrao Adsul) और उनके पुत्र पूर्व विधायक अभिजीत अडसुल (Abhijit Adsul) को ईडी (ED) ने समन भेजा है। सिटी बैंक घोटाला (Citi bank scam) मामले में यह समन भेजा गया है।  आज सुबह साढ़े आठ बजे उन्हें हाज़िर (Maharashtra) होने का आदेश दिया गया था. लेकिन अडसुल के दिल्ली में होने की वजह से उनके हाज़िर नहीं होने की जानकारी उनके बेटे अभिजीत अडसुल ने दी है।

आज सुबह ईडी के अधिकारी  पूर्व सांसद आनंदराव अडसुल के कांदिवली के घर गए थे।  सिटी बैंक घोटाला मामले में बड़नेर के युवा स्वाभिमान के विधायक रवि राणा ने इसे लेकर शिकायत की थी।  कहा जा रहा है कि इसी शिकायत पर यह समन  भेजा गया है।  अभिजीत अडसुल ने कहा है कि हम सभी तरह की जांच (Maharashtra) के लिए तैयार है।  लेकिन उन्होंने मांग की है कि राणा केस का फैसला निष्पक्षता से होना चाहिए।
उन पर सिटी बैंक में 900 करोड़ के घोटाले का आरोप है।  भाजपा विधायक रवि राणा की शिकायत के बाद अब ईडी इसे लेकर पूछताछ करेगी।  आरोप है कि आनंदराव अडसुल जब सिटी बैंक के अध्यक्ष थे तभी यह भ्रष्टाचार हुआ था।  अडसुल के रिश्तेदार बैंक के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स में थे।  उस दौरान कर्ज वितरण में बरती गई अनियमितता और NPA में नुकसान हुआ था ।  इस नुकसान के कारण बैंक पिछले दो वर्षों से कर्ज में डूबी है।
अडसुल पर आरोप 
5 जनवरी को बड़नेर विधानसभा सीट से विधायक रवि राणा ने आनंदराव अडसुल के सिटी को-ऑपरेटिव बैंक में घोटाले का  आरोप लगाया था ।  अडसुल के खिलाफ डॉक्युमेंट्स पेश करने के लिए राणा ईडी के कार्यालय गए थे।  मुंबई में सिटी को-ऑपरेटिव बैंक की 13 से 14 ब्रांच है।  इस बैंक में 900 अकाउंट होल्डर है।  इस बैंक के डूबने की वजह बैंक दवारा बांटे गए कर्ज का आरोप रवि राणा दवारा लगाया गया था।  अडसुल ने बैंक की प्रॉपर्टी किराये पर दे दी।  अकाउंट होल्डर्स को केवल एक हज़ार रुपए की रकम मिलने का भी आरोप रवि राणा ने लगाया है।
एक बार फिर से अनिल परब को ईडी का समन 
दो दिन पहले शिवसेना नेता और राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब को ईडी ने एक बार फिर से समन  भेजा है।  उन्हें 28 सितंबर को पूछताछ के लिए ईडी के कार्यालय में हाज़िर होने के लिए कहा गया है।  इस मामले में अभी तक अनिल परब की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।
मिली जानकारी के अनुसार मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूछताछ के लिए ईडी ने समन भेजा है।  सचिन वाझे ने गृह विभाग के ट्रांसफर को लेकर तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख पर आरोप लगाया था।  साथ ही अनिल वाझे ने अपने  कथित स्टेटमेंट में अनिल परब पर आरोप लगाते हुए कहा था कि ट्रांसफर रुकवाने के लिए अनिल परब को 20 करोड़ रुपए मिले थे।
इससे पहले भी अनिल परब को ईडी ने भेजा था समन
अनिल परब को इससे पहले ईडी ने समन  भेजकर पूछताछ के लिए हाज़िर रहने के लिए कहा था।  इससे पहले 31 अगस्त को ईडी ने अनिल परब को पूछताछ के  लिए हाज़िर रहने के लिए कहा था।  लेकिन उस वक़्त अनिल परब ईडी के कार्यालय में हाज़िर नहीं हुए थे।  अब एक बार फिर से ईडी ने समन  भेजकर पूछताछ के लिए हाज़िर होने को कहा है।

 

Pune Crime | पुणे के चाकण में नाबालिग लड़की के साथ छेड़छाड़ ; परिवार के सदस्यों के साथ मारपीट 

 

You might also like

Comments are closed.