Lockdown In Maharashtra: 14 अप्रैल की मध्यरात्रि से ‘इस’ तारीख तक राज्य में टोटल लॉकडाउन?

मुंबई : राज्य में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण ठाकरे सरकार की चिंता बढ़ गई है। राज्य में एक ही दिन में 63,000 से ज्यादा मरीज मिल रहे हैं और राज्य सरकार द्वारा कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए सख्त कदम उठाए जा रहे है। कोरोना पर अंकुश लगाने के लिए राज्य में सख्त लॉकडाउन करने की तैयारी शुरू हो गई है।

राज्य में लॉकडाउन किया तो वित्तीय नुकसान की भरपाई कैसे करनी है? लॉकडाउन कितने दिन की हो इसपर रविवार को टास्क फोर्स की बैठक में चर्चा हुई। हालांकि, टास्क फोर्स का मानना है कि राज्य में कोरोना को रोकने के लिए लॉकडाउन बहुत जरूरी है। इसलिए, राज्य में गुड़ी पड़वा के बाद लॉकडाउन की संभावना है। ठाकरे सरकार 14 अप्रैल की मध्यरात्रि से राज्य में लॉकडाउन पर विचार कर रही है। 14 अप्रैल की मध्यरात्रि से 30 अप्रैल की मध्यरात्रि तक सख्त लॉकडाउन की संभावना है।

लॉकडाउन के दौरान राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या में कमी नहीं आई तो लॉकडाउन अवधि को कुछ और दिनों तक बढ़ाने पर सरकार जोर देगी। इस दौरान राज्य में आवश्यक सेवाओं को छोड़कर अन्य सभी सेवाओं को बंद करना होगा। अगर सरकार ने अभी लॉकडाउन नहीं किया, तो यह आशंका है कि कोरोना मरीजों की संख्या अप्रैल के अंत तक 11 लाख तक पहुंच सकती है। इसलिए लॉकडाउन के दौरान सरकार कड़े प्रतिबंध लगाने वाली है।

राज्य में वर्तमान में कोरोना की दूसरी लहर चल रही है जो पहले की तुलना में अधिक खतरनाक साबित हो सकता है। कोरोना की नई लहर को रोकने के लिए लॉकडाउन के अलावा कोई विकल्प नहीं है। इसके बिना मरीजों की संख्या को नियंत्रित करना मुश्किल है, यह भूमिका टास्क फोर्स के विशेषज्ञ डॉक्टरों ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सामने रखी है। टास्क फोर्स ने यह भी चेतावनी दी है कि अगर लॉकडाउन नहीं की गई तो राज्य में गंभीर परिस्थिति का निर्माण हो सकता है।

टास्क फोर्स के साथ मुख्यमंत्री की चर्चा के बाद प्रशासनिक स्तर पर हलचल शुरू है। एक आदर्श कार्यप्रणाली (SOP) तैयार करने का काम शुरू हो गया है। कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए टास्क फोर्स के सदस्यों ने कम से कम 14 दिन से 3 सप्ताह के लॉकडाउन की सिफारिश की है।

मंत्रिमंडल के 14 अप्रैल के बाद होने वाली बैठक में लॉकडाउन पर निर्णय होने की जानकारी स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने दी है। मुख्यमंत्री ने शनिवार को राजनीतिक नेताओं के साथ चर्चा करने के बाद रविवार को टास्क फोर्स के साथ दो घंटे की चर्चा की। इसके बाद, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुख्य सचिव के साथ एक अलग चर्चा की। रविवार को मुख्यमंत्री ने मैराथन बैठक की और सभी का मत जाना।

इस बीच, 4 से 10 अप्रैल के बीच राज्य में लगभग 4 लाख नए मरीज मिले हैं। वहीं 1982 मरीजों की मौत हुई है। वर्तमान में, राज्य में कोरोना से होनेवाले मृत्यु का दर 0.5 प्रतिशत है और यह दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। पिछले महीने में 14 मार्च से 20 मार्च तक 1.5 लाख मरीज थे। वर्तमान में पॉजिटिविटी रेट 26 प्रतिशत है और जितने अधिक जांच किए जा रहे हैं, दर भी उतने बढ़ रहे हैं।

You might also like

Comments are closed.