Karnataka | भाजपा में आने के लिए पैसों की पेशकश, पूर्व मंत्री पाटिल का खुलासा

Karnataka | भाजपा में प्रवेश करने के लिए पैसे के ऑफर दिए गए थे, ऐसा आरोप कर्नाटक के पूर्व मंत्री श्रीमंत पाटिल (Karnataka mla shrimant patil ) ने लगाया है। पाटिल के इस सनसनीखेज बयान के बाद कर्नाटक (Karnataka) में सियासी गलियारों में हड़कंप मच गया है। श्रीमंत पटेल कांग्रेस से भाजपा (BJP) में शामिल हुए थे। पाटिल ने सनसनीखेज दावा किया है कि उन्हें उस वक्त बीजेपी में शामिल होने के लिए पैसे की पेशकश की गई थी। पाटिल के दावे के बाद कांग्रेस (congress) ने जांच की मांग की है।

श्रीमंत पाटिल के इस दावे पर पूर्व उपमुख्यमंत्री लक्ष्मण सवड़ी ने सतर्क प्रतिक्रिया दी है। मुझे इस बारे में कुछ पता नहीं है। हालांकि, उन्होंने कहा कि पूर्व मंत्री पाटिल को बताना चाहिए कि पैसा देने कौन आया था। पूर्व मंत्री श्रीमंत पाटिल ने शनिवार (11 तारीख) को एक कार्यक्रम में कहा कि कांग्रेस से भाजपा में शामिल होने पर पैसे की पेशकश की गई थी। लेकिन, मैंने चुपके से उस ऑफर को ठुकरा दिया था। इससे राजनीतिक गलियारों में हड़कंप मच गया है। रविवार को अथणी के एक समारोह में इस बारे में पूछे जाने पर सवड़ी ने कहा, ” श्रीमंत पाटिल का बयान का क्या अर्थ था वो मुझे पता नहीं है। लेकिन, उन्होने ऐसा कहा है वो मेरे कानों तक आया है। हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि यह ऑफर किसने दिया या पैसे देने के लिए कौन आया था।

राज्य में कांग्रेस-धजद पार्टी की गठबंधन सरकार थी उस समय पूर्व मंत्री रमेश जारकीहोली के साथ 17 लोग भाजपा में शामिल हो गए, जिससे गठबंधन सरकार गिर गई। उसके बाद उपचुनाव हुआ और श्रीमंत पाटिल ने जीत हासिल की। उन्हें वस्त्रोद्योग मंत्री का पद भी दिया गया था। हालांकि, हाल ही में राज्य में नेतृत्व परिवर्तन के कारण, पाटिल को अपना मंत्री पद छोड़ना पड़ा। तब से पाटिल स मंत्री पद के लिए फॉलोअप लिया जा रहा है। मांग की जा रही है कि मराठा समुदाय के एक प्रतिनिधि को कैबिनेट में जगह दी जाए।

कांग्रेस ने की आरोपों की जांच की मांग

पूर्व मंत्री श्रीमंत पाटिल ने कहा है कि बीजेपी में शामिल होने के लिए पैसे का बड़ा ऑफर दिया गया। कांग्रेस ने आरोपों की जांच की मांग की है। इस संबंध में पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडुराव ने ट्वीट किया। “भाजपा ने उन्हें पार्टी में शामिल होने के लिए पैसे की पेशकश की थी। इससे स्पष्ट है कि भाजपा ने कांग्रेस और डीजेडी के 17 विधायकों को अवैध धन से खरीदा है। विधायकों को खरीद कर सत्ता में आई यह सरकार नाजायज है। विधायकों को खरीदने के लिए पैसे का जरिया क्या है? ऐसा उन्होंने ट्विटर पर सवाल किया है।

Nagpur Police | पुणे ट्रेनिंग के लिए आये नागपुर के 12 पुलिस कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, पुलिस विभाग में मची खलबली 
Nagpur | नाबालिग लड़की के साथ सहमति से यौन संबंध बनाना भी बलात्कार, कोर्ट ने दोषी को सिखाया सबक

 

You might also like

Comments are closed.