बढ़ेगी कनकनी…पश्चिमी विक्षोभ के असर से पहाड़ बर्फ से लदे, सर्द हवाएं मैदानी इलाकों में सितम ढाएंगी

नई दिल्ली. ऑनलाइन टीम : मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार उत्तरी पाकिस्तान और पंजाब के ऊपर पश्चिमी विक्षोभ का एक टर्फ चक्रवातीय कम दवाब के क्षेत्र में बदल रहा है। एक कम दवाब का क्षेत्र दक्षिण अरब सागर और मध्य अरब सागर में बन रहा है। पूरे देश के मौसम पर इसका असर देखने को मिल रहा है।  बारिश और बादल के कारण अगले तीन दिनों में चार डिग्री तक की गिरावट हो सकती है। इससे कनकनी बढ़ेगी।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि पश्चिमोत्तर भारत में अगले तीन दिनों के दौरान न्यूनतम तापमान दो से तीन डिग्री सेल्सियस नीचे जा सकता है। पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी के तेज होने के साथ ही मैदानी इलाकों में ठंड बढ़ने के आसार हैं। मौसम वैज्ञानिकों का अनुमान है कि बादलों के हटते ही 16 दिसंबर के आसपास ठंड तेजी से बढ़ेगी।

जानकारी के अनुसार, देश के उत्तरी भाग के कई हिस्सों में रविवार को हिमपात हुआ ,फलस्वरूप जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में कई स्थानों पर पारा शून्य के नीचे चला गया। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली एवं मध्य प्रदेश समेत देश के कुछ अन्य क्षेत्रों में घना कोहरा छाया रहा, परिणामस्वरूप दृश्यता घट जाने से यातायात प्रभावित हुआ।दिल्ली के कई हिस्सों में रविवार को घना कोहरा छाए रहने से दृश्यता कम हो गई जिससे यातायात प्रभावित हुआ। आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि शनिवार को हुई बारिश की वजह से हवा में नमी बढ़ी, जिससे दिल्ली के कई हिस्सों में ‘घना’ कोहरा छाया रहा।

मुंबई के कुछ हिस्सों में बारिश दर्ज की गई है। आईएमडी मुंबई के अनुसार अगले 3-4 घंटों तक हल्की से मध्यम बारिश जारी रहने की उम्मीद है। झारखंड में 17 दिसंबर से मौसम शुष्क रहेगा, सुबह में कोहरा और धुंध रह सकता है। बिहार की राजधानी पटना का अधिकतम तापमान 23 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 14 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।b

You might also like

Comments are closed.