कोंढवा में भाई न बोलने पर हुए विवाद में युवक पर कोयते से जानलेवा हमला, घाव पर लगे 105 टाके

पुणे : भाई न कहने पर एक महीने पहले हुए विवाद में 8 से 9 लोगों के गैंग ने तलवार, कोयते से एक पर जानलेवा हमला किया। डॉक्टर ने अथक परिश्रम कर घव पर 105 टाका लगाया और युवक की जान बचाई जा सकी।

कोंढवा पुलिस ने क्लॉईड, हर्षे, भूषण व उसके 6 से 7 साथियों पर हत्या की कोशिश का मामला दर्ज कइया है। फरहान अख्तर पिरजादे (उम्र 19, नि. गगन एमरलड सोसायटी, कोंढवा खुर्द) घायल युवक का नाम है। यह घटना कोंढवा के सनश्री सोसायटी के सामने वाले रोड पर शुक्रवार शाम साढे 7 बजे के आस पास हुई।

कोंढवा पुलिस थाने के प्रभारी अधिकारी स्वप्नील पाटिल व संतोष सोनवणे ने पुणे समाचार ऑनलाईन से कहा कि क्लॉईड व उसके साथी की एक महीने पहले फरहान से लड़ाई हुई थी। क्लॉईड ने फरहान को धमकी दी कि वो उसे भाई बोले, इसी पर विवाद हो गया। उस समय क्लॉईड ने फरहान को धमकी दी कि जल्द ही मिलेंगे। फरहान ने इसे अनसुना किया और पुलिस में शिकायत नहीं दी।

शुक्रवार को फरहान और उसके दोस्त फुटबॉल खेलने के लिए जा रहे थे। उसी समय एक महीने पहले हुए विवाद का बदला लेने के लिए फरहान के चेहरे पर तलवार से वार किया। उसके साथी भूषण ने कोयते से उसके सिर पर वार किया। फरहान के कंधे पैर और गर्दन पर वार किया।

इसके साथ ही बीचबचाव के लिए आए दोस्त ओवेस, फरदीन व जिशान शेख पर भी धारदार हथियार व बेसबॉल के स्टिक से पीट कर घायल कर दिया। इस घटना की जानकारी मिलते ही सहायक पुलिस आयुक्त राजेंद्र गलांडे, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सरदार पाटिल, पुलिस निरीक्षक शब्बीर सय्यद, उपनिरीक्षक एसके सोनवणे, स्वप्नील पाटिल घटनास्थल पर पहुंच कर सर्वेक्षण किया। उस मामले की जांच कोंढवा पुलिस कर रही है।

लॉकडाउन के समय में भी कोंढवा में सबकुछ चालू है। लोग खेलने के लिए मैदान में जाते हैं और अपराधी सड़क पर तांडव कर रहे हैं।

You might also like

Comments are closed.