अफ्रीकी देश इथोपिया में बंदूकधारियों ने 100 से ज्यादा लोगों को भून डाला  

अदिस अबाबा. ऑनलाइन टीम : अफ्रीकी देश इथोपिया में बंदूकधारियों के भीषण हमले में 100 से ज्यादा लोग मारे गए हैं। हमला बुलेन काउंटी के बेकोजी गांव में हुआ है। एक वरिष्ठ सुरक्षा के अनुसार,   मारे गए लोगों की भी पहचान की जा रही है। यह इलाका कई जातीय गुटों का घर है जिसमें गुमुज लोग भी शामिल हैं। गुमुज लोगों की शिकायत है कि हाल के दिनों में पास के अमहारा इलाके से किसान और बिजनसमैन उनके इलाके में आने लगे हैं और वे उपजाऊ जमीन पर कब्जा कर रहे हैं। उधर, अमहारा लोगों का दावा है कि कुछ जमीन उनकी है। जातीय हिंसा से जूझ रहे इस इलाके में लोग अपने घरों को छोड़कर भाग रहे हैं।

बता दें कि लंबे समय से इथोपिया पूर्वी सीमा पर सोमालियाई इस्लामिक आतंकियों के खतरे का सामना कर रहा है। यहां अगले साल चुनाव होने वाले हैं और जमीन, सत्ता तथा प्राकृतिक संसाधनों को लेकर तनाव बढ़ता ही जा रहा है। सेना विद्रोहियों से जूझ रही है। इथोपिया की सेना और विद्रोहियों के बीच में तिगरय इलाके में पिछले 6 सप्ताह से संघर्ष चल रहा है। पिछले चार नवंबर से तो यहां युद्ध जैसे हालात बन गए हैं।

अबिय अहमद के सत्ता में आने के पहले इथोपिया पर 27 साल तक तिगरे पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने शासन किया।  उनके शासनकाल में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार और मानवाधिकार हनन की घटनाएं हुईं। तब सरकार विरोधियों को यातना दिए जाने के आरोप बड़े पैमाने पर लगे थे। इससे तिगरे पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट (टीपीएलएफ) की सरकार अलोकप्रिय हुई। इसी कारण अबिय अहमद की सरकार सत्ता में आई। अब होने वाले चुनाव में विरोधी मौजूदा सरकार को गिराना चाहते हैं, इसलिए हिंसक कार्रवाई पर उतर आए हैं।

यहां यह बताना जरूरी है कि इथोपिया अफ्रीकी देशों के संगठन अफ्रीकन यूनियन का मुख्यालय है। आशंका यह है कि गृह युद्ध के कारण यहां से बड़ी संख्या में शरणार्थी भागकर दूसरे अफ्रीकी या यूरोपीय देशों में जा सकते हैं। इथोपिया का पड़ोसी देश इट्रिया से 1998 से साल 2000 तक युद्ध चला था, जिसमें तकरीबन एक लाख लोग मारे गए थे।

You might also like

Comments are closed.