सोना रिकार्ड सस्ता…घरेलू बाजार में मांग जबर्दस्त, खरीदने का बेहतर मौका 

नई दिल्ली. ऑनलाइन टीम : सोना लगातार सस्ता हो रहा है, इस कारण घरेलू बाजार में सोने की जोरदार मांग बनी हुई है। इस साल एक जनवरी से अब तक सर्राफा बाजार में सोना (24 कैरेट) 4,963 रुपए (9.89 प्रतिशत) सस्ता हुआ है।  45,500 प्रति 10 ग्राम तक इसका भाव पहुंच गया है। सोना 10 महीने में करीब 11 हजार रुपये तक सस्ता हो चुका है, जबकि अगस्त 2020 में 56,200 रुपये के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया था।

पिछले कारोबारी सत्र के दौरान दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 44,760 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। वहीं अंतरराष्ट्रीय बाजार में हाजिर सोना 0. 2% लुढ़ककर 1,734.16 डॉलर प्रति औंस पर आ गया।

चांदी : चांदी की कीमतों में बुधवार को कोई खास असर नहीं रहा। दिल्ली सर्राफा बाजार में चांदी वायदा 69,216 प्रति किलोग्राम पर सपाट रही। वहीं पिछले कारोबारी सत्र में कीमती धातु 1,847 रुपये की गिरावट के साथ 67,073 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी।

जिस हिसाब से भाव गिर रहे हैं, उसे देखते हुए निवेशकों को सोचना पड़ रहा है कि सोने में पैसा लगाना ठीक रहेगा या नहीं। जानकारों की मानें तो सोने के भाव में तेजी से गिरावट डॉलर में मजबूती है। अमेरिका में सत्ता परिवर्तन के बाद दुनिया की अन्य करंसी की तुलना में डॉलर तेजी से मजबूत हो रहा है।

अमेरिकी डॉलर और सोने के भाव में एक निगेटिव संबंध है। यानी कि डॉलर के दाम बढ़ते हैं तो सोने के भाव में गिरावट आती है। सोने के भाव जिस वक्त तेज होते हैं, उस वक्त डॉलर के दाम गिर रहे होते हैं।  जानकार बताते हैं कि अगले 3-4 महीने में सोने का दाम रिकॉर्ड स्तर पर बढ़ सकता है और यह 1960 डॉलर प्रति औंस तक जा सकता है।  अभी सोने में गिरावट इसलिए देखी जा रही है, क्योंकि सरकार ने बजट में सीमा शुल्क को लेकर खास ऐलान किया था। इसका भी सोने के मूल्य पर असर देखा जा रहा है।

जानकारों के मुताबिक, पिछले कुछ दिनों में अमेरिका और वैश्विक बांड की यील्ड में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। इसके अलावा डॉलर मजबूत हुआ है। इसका असर सोने की कीमतों पर पड़ा है। इस हफ्ते कारोबारियों की नजर अमेरिकी फेडरल रिजर्व और ओपेक की बैठक पर है। शुकवार को नॉन फॉर्म पे रोल के आंकड़े आएंगे।

You might also like

Comments are closed.