गोल्ड सर्टिफिकेट.. महाराष्ट्र का पहला ग्रीन स्टेशन बना छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस  

मुंबई. ऑनलाइन टीम : मुंबई के ऐतिहासिक और मशहूर स्टेशनों में से एक इंडियन रेलवे का छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस  को  पूर्व में  विक्टोरिया टर्मिनस कहा जाता था, एवं अपने लघु नाम वी.टी., या सी.एस.टी. से अधिक प्रचलित है। यह भारत की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई का एक ऐतिहासिक रेलवे-स्टेशन है, जो मध्य रेलवे, भारत का मुख्यालय भी है। यह भारत के व्यस्ततम स्टेशनों में से एक है, जहां मध्य रेलवे की मुंबई में, व मुंबई उपनगरीय रेलवे की मुंबई में समाप्त होने वाली रेलगाड़ियां रुकती व यात्रा पूर्ण करती हैं। आंकड़ों के अनुसार यह स्टेशन ताजमहल के बाद; भारत का सर्वाधिक छायाचित्रित स्मारक है।

इस रेलवे टर्मिनस को महाराष्ट्र के प्रथम ग्रीन स्टेशन का अवॉर्ड मिला है। यह स्टेशन सेंट्रल रेलवे  जोन के तहत आता है। भारतीय उद्योगपरिसंघ   के इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल  की ओर से गोल्ड सार्टिफिकेट से सम्मानित किया गया। इस बात की जानकारी रेल मंत्री पीयूष गोयल  ने ट्विटर के जरिए दी है।

मध्य रेलवे के प्रवक्ता शिवाजी सुतार ने पहले ग्रीन स्टेशन का अवॉर्ड मिलने पर खुशी जताते हुए कहा कि यह मध्य रेलवे के तमाम कर्मचारियों की दिन-रात मेहनत और उनके प्रयासों का नतीजा है और इसका श्रेय सभी लोगों को जाता है। इस स्टेशन के यह अवॉर्ड हरित क्षेत्र बनाने, सौर पैनलों की स्थापना, एलईडी बल्ब, विकलांग और वरिष्ठ नागरिकों के लिए कंप्यूटर फ्रेंडली बनाने जैसी कई विशेषताओं के लिए मिला है।

कारण यह है-

-पार्किंग स्थल में इलेक्ट्रिक 2 और 4 व्हीलर को प्रोत्साहित करने के लिए कुछ पार्किंग स्थानों के लिए इलेक्ट्रिक चार्जिंग पॉइंट लगाये गये है।

-स्टेशन स्थल का 15% से अधिक क्षेत्र पेड़ों और छोटे पार्कों से आच्छादित है। जैविक खाद से लैंडस्केप क्षेत्र, लॉन आदि का रखरखाव किया जाता है।

-छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस स्टेशन साइट पर 245 kWp सोलर पैनल लगाए हैं। स्टेशन के 100% लैम्पों को एलईडी में बदल दिया गया है।

-विभिन्न कार्यालयों और प्रतीक्षालयों में 17 सेंसर स्थापित ऊर्जा कुशल बीएलडीसी और एचवीएलएस पंखों को विभिन्न स्थानों पर स्थापित किया जाता है।

-व्यापक मैकेनाइज्ड क्लीनिंग कॉन्ट्रैक्ट प्लेटफॉर्म, कॉनकोर्स, सर्कुलेटिंग एरिया, पार्किंग स्थल, ट्रैक, रूफ टॉप, शटर, वेटिंग हॉल आदि पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

– “प्लास्टिक बैग के उपयोग से बचें” बताते हुए साइनेज स्थापित है, और प्लास्टिक बैग के प्रतिकूल पर्यावरणीय प्रभावों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए डिजिटल डिस्प्ले बोर्ड हैं।

You might also like

Comments are closed.