फर्जी कागजात से जमानत में मदद करनेवाले गिरोह का पर्दाफाश

दो अलग अलग मामलों में 6 गिरफ्तार; पिंपरी पुलिस की कार्रवाई
संवाददाता, पिंपरी। चोरी, लूटपाट, सेंधमारी, डकैती, पॉक्सो जैसे गंभीर मामलों में गिरफ्तार किए गए आरोपियों को जमानत दिलाने के लिए फर्जी कागजात बनाने वाले गिरोह पर पिंपरी चिंचवड़ की पिंपरी पुलिस ने पर्दाफाश किया है। यह गिरोह फर्जी आधार कार्ड, राशन कार्ड, जमीन का 7/12 जैसे कागजात बनाकर अदालत को गुमराह करता था। पुलिस ने दो अलग अलग मामलों में छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
पहली कार्रवाई में सुनील मारुती गायकवाड (52, निवासी चावडी चौक, आलंदी, पुणे), नंदा एकनाथ थोरात (43, निवासी इंद्रायणीनगर, आलंदी), पौर्णीमा प्रशांत काटे (30, निवासी इंद्रायणी नगर, आलंदी) नामक आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। उनके खिलाफ पुलिस सिपाही रोहित सुधाकर पिंजरकर ने पिंपरी थाने में शिकायत दर्ज कराई है। दूसरी कार्रवाई में सलमान ताजुद्दीन मुजावर (24), समाधान प्रभाकर गायकवाड (23), श्रीधर मगन शिंदे (23, सभी निवासी काटे चाल, दापोडी, पुणे) को गिरफ्तार किया गया है। उनके खिलाफ पुलिस सिपाही उमेश वानखडे ने शिकायत दर्ज कराई है।
दोनों मामलों में गिरफ्तार किए गए आरोपियों ने चोरी, सेंधमारी, लूटपाट, डकैती, पॉक्सो जैसे गंभीर आपराधिक मामलों के आरोपियों को फर्जी कागजात के जरिए पुणे के शिवाजीनगर स्थित जिला न्यायालय समेत अन्य न्यायलयों से जमानत दिलाने में मदद किये जाने की जानकारी सामने आयी है। जमानत के लिए आधार कार्ड, राशन कार्ड, सातबारा की नकल जैसे दस्तावेज तैयार किए जा रहे थे। जमानत पर रिहा होने के बाद अदालती कार्यवाही के लिए उपस्थित नहीं होने वाले प्रतिवादियों को जाली दस्तावेजों के आधार पर कुछ और प्रसिद्ध वकीलों के अनुरोध पर जमानत पर अदालत में पेश किया जाता था। इसके आधार पर आरोपियों को कोर्ट ने जमानत पर रिहा कर दिया।  विभिन्न मामलों में गिरफ्तार आरोपियों को जमानत देने के लिए आरोपी बार-बार फर्जी दस्तावेजों का सहारा लेकर कोर्ट को गुमराह कर रहे हैं। पिंपरी कोर्ट में पेश होने के लिए आरोपियों ने फर्जी नाम से फर्जी दस्तावेज रखे हैं। पिंपरी पुलिस जांच कर रही है।
You might also like

Comments are closed.