महिला पुलिस अधिकारी पर हमला करने के मामले में अर्णब गोस्वामी पर एफआईआर दर्ज 

मुंबई, 5 नवंबर : रिपब्लिक भारत चैनल के चीफ एडिटर अर्णब गोस्वामी के खिलाफ नई एफआईआर दर्ज की गई है।  गोस्वामी को बुढ़ार की सुबह मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया था।  इस दौरान  गोस्वामी और उनकी पत्नी ने पुलिस की कार्रवाई का विरोध किया था।  इस दौरान अर्णब ने एक  पुलिसकर्मी के साथ मारपीट की।  इस वजह से अर्णब के खिलाफ धारा 353, 504, 506 और 34 के तहत केस दर्ज किया गया है।

 

गोस्वामी को बुधवार की सुबह उनके घर से गिरफ्तर किया गया।  पेशे से इंटीरियर डिज़ाइनर रहे अन्वय नाईक ने अलीबाग में अपने घर में 5 मई 2018 को आत्महत्या की थी।  अन्वय नाइक ने आत्महत्या से पहले लिखे पत्र में कहा था कि अर्णब गोस्वामी के पास पैसे बकाया होने के कारण आत्महत्या कर रहा हूं।

अन्वय नाईक की पत्नी अक्षता की शिकायत पर अलीबाग में धारा 306 के तहत केस दर्ज किया गया था।  इस मामले में पूछताछ के लिए अलीबाग पुलिस ने अर्णब को गिरफ्तार किया है।   इस मामले अर्णब के साथ अन्य दो लोगों पर भी केस दर्ज है।

रिपब्लिक  का क्या दावा है ?

 

रिपब्लिक ने पुलिस की करवाई पर सवाल उठाते हुए कहा है कि पुलिस ने जबरन घर में घुसकर अर्णब के साथ धक्कामुक्की की।  अर्णब का कहना है कि पुलिस ने उसे धमकाया।  दावा किया गया है कि बगैर किसी वैध डाक्यूमेंट्स और बंद हो चुके केस में गिरफ्तार किया गया है।

दावा किया गया है कि अर्णब के घर में दस पुलिसकर्मी घुसे और घर से बाहर आने के लिए जबरन  धक्कामुक्की की।  साथ ही पुलिस ने रिपब्लिक के कार्यकारी संपादक निरंजन नारायणस्वामी और संजय पाठक को घर जाने से रोका गया। गिरफ़्तारी की करवाई के लिए अर्णब के घर के बाहर पुलिस की 8 गाडी और 40 से 50 कर्मचारी मौजूद थे। निरंजन को रिपोर्टिंग करने से रोका गया।
You might also like

Comments are closed.