‘एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा’: कभी हंसाती तो कभी रुलाती है फिल्म…

पुणे : समाचार ऑनलाइन (असित मंडल) – अनिल कपूर, सोनम कपूर, राजकुमार राव, और जूही चावला स्टारकास्ट फिल्म ‘एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा'(ELKDTAL) आज रिलीज हुई। फिल्म के ट्रेलर से पता चल गया था कि यह समलैंगिक विषय पर बनी एक फिल्म होगी। फिल्म रिलीज के तीन दिन पहले इसका दूसरा ट्रेलर भी रिलीज किया गया था। फिल्म में पहली बार अनिल कपूर और उनकी बेटी सोनम कपूर बड़े पर्दो पर साथ दिखाई दिए। फिल्म का निर्देशक शेली चोपड़ा धर ने किया है। वहीं फिल्म को विधु विनोद चोपड़ा ने प्रोड्यूस किया है। इस फिल्म के रिलीज के बाद ही बॉलीवुड ने संकेत दे दिया कि अब बॉलीवुड भी बदल रहा है। पहले जहां बॉलीवुड ज्यादातर सामाजिक मुद्दे, आर्ट फिल्में बनती थी वही आज बोल्ड सब्जेक्ट्स पर फीचर फिल्मस बनाई जाने लगी हैं। ‘एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा’ यह भी एक बोल्ड सब्जेक्ट्स पर बनी फिल्म है। प्यार और परिवार की लड़ाई में कैसे अपनी पहचान के लिए लड़ती है, फिल्म में यह एक लड़की की कहानी है।

फिल्म की कहानी –
इस फिल्म की कहानी स्वीटी (सोनम कपूर) नाम की लड़की के बचपन से शुरू होती है। जो बड़े होकर शादी करने का ख्वाब देखती है। फिल्म में पहली बार बड़े पर्दो पर अनिल, सोनम कपूर के पिता का किरदार निभा रहे हैं। फिल्म में कुछ ऐसी चीज़े होती है जिसके बाद एक दिन अनिल कपूर का बेटा कहता है कि हमें जल्दी से स्वीटी की शादी करा देनी चाहिए। जिसके बाद स्वीटी का परिवार उसके लिए लड़का खोजने में जुट जाता है। हालांकि इन सब के बावजूद हर कोई स्वीटी की पसंद पूछना भूल जाते है। इस तरह फिल्म आगे बढ़ते हुए एक दिन शाहिल मिर्जा (राजकुमार रॅाव) की मुलाकात स्वीटी से होती है और उसे उससे प्यार हो जाता है। स्वीटी के घरवालों को जब शाहिल के प्यार का पता चलता है तो अनिल भी अपने बेटी की शादी शाहिल से कराने के लिए तैयार हो जाते हैं। वहीं फिल्म में अनिल कपूर जूही चावला से भी फ्लर्ट करते हुए भी नजर आते हैं।

इस दौरान फिल्म में अचानक स्वीटी को अपनी जिंदगी का एक बड़ा सच पता चलता है और फिर वह इसे पूरी दुनिया में बताने का फैसला करती हैं। इसके बाद स्वीटी केवल अपना सच शाहिल यानि राजकुमार राव के साथ शेयर करती है। इसके बाद दोनों एक ड्रामा बनाते हैं जिसका हिस्सा स्वीटी का पूरा परिवार होता है। सोनम परिवार और प्यार की लड़ाई में कैसे अपनी पहचान के लिए लड़ेंगी, यही इस फिल्म में दिखाया गया है। इस फिल्म में अनिल कपूर और जूही चावला 9 साल बाद बड़े पर्दे पर साथ नजर आये। फिल्म में एकबार फिर से राजकुमार राव अपने अंदाज में फैंस का दिल जीतते नजर आएंगे।

फिल्म की मजबूती –
फिल्म का अंत काफी चौंकाने वाला है। फिल्म में सोनम और अनिल की बॅान्डिंग शानदार दिखाया गया है। मूवी का फर्स्ट हाफ जरा लंबा रहा, वहीं दूसरे हॅाफ को कम एंटरटेनिंग बनाया गया। फिल्म में राजकुमार और सोनम की कैमिस्ट्री शानदार है। वहीं जूही चावला आपको मूवी में कॅामेडी का तड़का डालती दिखाई दे देगी। फिल्म के गाने शानदार हैं। फिल्म में कमजोर कड़ी की बात करें तो मूवी ऑडियंस को लंबा लग सकता है।

डायरेक्शन –
फिल्म को शैली चोपड़ा धर ने डायरेक्ट किया है। बता दें कि डायरेक्टर यह उनकी पहली फिल्म है। इससे पहले अनिल कपूर की फिल्म ‘1942 ए लवस्‍टोरी’ को शैली चोपड़ा के भाई विधु विनोद चोपड़ा ने डायरेक्ट किया था।

एक्टिंग –
फिल्म में सभी कलाकारों ने उम्दा अभिनय किया है। राज कुमार राव को तो भविष्य का किंग खान कहा जाता है और उन्होंने से साबित कर दिया है। वहीं फिल्म सोनम कपूर के आगे-पीछे घूमती है। सोनम ने भी अपना रोल बखूबी निभाया है। अनिल कपूर और जूही चावल हमेशा की तरह अपने-अपने रोल में फिट बैठे है। फिल्म में मौजूद गाने कबीले तारीफ है। वह फिल्म को कनेक्ट करते है।

बॉक्स ऑफिस –
फिल्म को लेकर कयास लगाए जा रहे है कि फिल्म पहला दिन 3 से 4 करोड़ रुपए का बिजनेस करेगी। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि फिल्म एक फुल फैमिली ड्रामा है। साथ ही मूवी की एंडिंग कुछ बहुत बड़ा मैसेज दिया गया है। पुणे समाचार की ओर से इस फिल्म को 3.5 स्टार्स दिया जाता है।

You might also like

Comments are closed.