सीधी चुनौती…इस बार इंडिया गेट पर खेती करेंगे किसान, 40 लाख ट्रैक्टर मोर्चे के लिए तैयार 

नई दिल्ली. ऑनलाइन टीम : किसान एक बार फिर दिल्ली कूच की तैयारी में हैं। गत 26 जनवरी का घटना को साजिशन किसानों को बदनाम करने का षड्यंत्र बताते हुए नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार हमारी सुन नहीं रही है। उल्टे हमें आरोपों के घेरे में ले रही है। देशद्रोही तक करार दिया जा रहा है। लेकिन हम साफ बता देना चाहते हैं कि देश के किसानों को ही असल में तिरंगे से प्यार है, इस देश के नेताओं को नहीं।’ पर सरकार कान खोलकर सुन ले कि हम डिगने वाले नहीं, हटने वाले नहीं।

खुली चुनौती देते हैं कि सरकार  तीनों कृषि कानून वापस ले और एमएसपी लागू करें, नहीं तो बड़ी-बड़ी कंपनियों के गोदाम को ध्वस्त करने का काम भी देश का किसान करेगा। इसके लिए संयुक्त मोर्चा जल्द तारीख भी बताएगा। नेता राकेश टिकैत यही नहीं रुके, उन्होंने यह भी ऐलान किया कि इस बार किसान चालीस लाख ट्रैक्टरों से संसद का घेराव करेंगे।

राजस्थान के सीकर में संयुक्त किसान मोर्चा की किसान महापंचायत को संबोधित करते टिकैत ने  कहा, ‘अगर केंद्र सरकार ने कृषि कानूनों को वापस नहीं लिया तो इस बार आह्वान संसद घेरने का होगा और वहां चार लाख नहीं चालीस लाख ट्रैक्टर जाएंगे।  इंडिया गेट के पास के पार्कों में हम जुताई करेंगे और फसल भी उगाएंगे।

महापंचायत को स्वराज आंदोलन के नेता योगेंद्र यादव, अखिल भारतीय किसान सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमराराम, किसान यूनियन के राष्ट्रीय महामंत्री चौधरी युद्धवीर सिंह सहित कई किसान नेताओं ने भी संबोधित किया। इससे पहले टिकैत ने चूरू जिले के सरदारशहर में भी किसानों की सभा को संबोधित किया।

You might also like

Comments are closed.