Loading...

दिग्विजय  ने कहा-गोडसे देश का पहला आतंकी, प्रज्ञा सिंह का पलटवार-कांग्रेस हमेशा देशभक्तों को गालियां देती है 

Loading...

भोपाल. ऑनलाइन टीम : नाथूराम गोडसे को लेकर एक बार फिर राजनीति गर्माने लगी है। एक तरफ जहां हिंदू महासभा ने गोडसे के चित्र पर तिलक किया और आरती उतारी, वहीं कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के नाथूराम गोडसे को भारत का पहला आतंकवादी करार दिया है। मुख्यमंत्री दिग्विजय ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा है कि ‘‘गांधी से बड़ा कोई हिंदू नहीं था जो सीने में गोली लगने बाद भी मुंह से (हे राम) निकला, नाथूराम गोडसे देशद्रोही था, जिसने गांधी के सीने में गोली मारकर हत्या की थी, गोडसे देश  का पहला आतंकवादी था।’’

Loading...

Loading...

उनके इस बयान पर भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा से देशभक्तों को गालियां दी हैं। उसने भगवा आतंक तक कह दिया है इससे ज़्यादा उसकी निकृष्टता और क्या होगी। बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान प्रज्ञा ठाकुर ने गोडसे को देशभक्त करार दिया था। इसको लेकर काफी विवाद भी हुआ। बीजेपी को सफाई देनी पड़ गई थी और पार्टी को प्रज्ञा ठाकुर के बयान से अलग कर लिया।

इस बीच, ग्वालियर में गोडसे की पूजा से  मध्य प्रदेश का सियासी तापमान बढ़ गया है। गोडसे को आदर्श मानने वाली हिंदू महासभा ने गोडसे ज्ञानशाला की शुरुआत की है। पार्टी का कहना है कि इसके माध्यम से हम युवा पीढ़ी को देश की आजादी के लिए बलिदान देने वालों की गाथा बताएंगे, ग्वालियर जिला प्रशासन के दखल देने के बाद हिंदू महासभा ने ग्वालियर में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की ज्ञानशाला को मंगलवार को बंद कर दिया है।

ग्वालियर के अपर कलेक्टर किशोर कान्याल ने बताया, ”मीडिया में समाचार आने के बाद दौलतगंज में इस ज्ञानशाला की जानकारी मिली थी। इसके बाद प्रशासन ने हिंदू महासभा के पदाधिकारियों से बात की और नोटिस जारी किया। इसके साथ दौलतगंज इलाके में धारा 144 लगा दी गई है।” उधर प्रशासन से बात करने के बाद हिंदू महासभा ने गोडसे की ज्ञानशाला को बंद कर दिया।

Loading...

Comments are closed.