बढ़ती आपराधिक घटनाओं पर उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने जताई चिंता

पिंपरी। हालिया पुणे में हथियारबंद चोरों को देखकर पुलिसकर्मियों के भागने का वीडियो वायरल हुआ है। उन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने के बाद चतुःश्रृंगी पुलिस ने उन चोरों में शामिल एक शातिर अपराधी को भी धरदबोचा। इस घटना का धागा पकड़ते हुए उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने शुक्रवार को पिंपरी चिंचवड़ में आयोजित एक समारोह में पुणे व पिंपरी चिंचवड़ में बढ़ती आपराधिक घटनाओं पर चिंता जताई। उस घटना पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने कहा कि पुलिस को देखकर चोर भागने चाहिए न कि चोरों को देखकर पुलिस को। पवार ने कहा कि ऐसी घटनाओं से दूसरे पुलिसकर्मियों के मनोबल पर विपरीत असर होता है।

कोरोना के संकटकाल में फ्रंट में रहकर किये गए काम से जहां पुलिस बल की प्रतिमा ऊंची बनी थी, पुणे की घटना से वह प्रतिमा मलिन बन गईं, इन शब्दों में उन्होंने नाराजगी जताई। कोरोना काल में कई पुलिसकर्मियों को अपनी जान गंवानी पड़ी, उनके कामों की दखल इतिहास को लेनी पड़ेगी, ऐसी सराहना भी उन्होंने की। आज चिंचवड़ के प्रो रामकृष्ण मोरे प्रेक्षागृह में उपमुख्यमंत्री के हाथों पिंपरी चिंचवड़ पुलिस आयुक्तालय के सभी पुलिस कर्मचारियों को हेल्थ 365 स्मार्ट वॉच और स्पोर्ट्स साइकिल बांटी गई। इसके साथ ही ग्राम सुरक्षा रक्षक दल के सदस्यों को पहचान पत्र का वितरण भी उनके हाथों किया गया। इस मौके पर महापौर ऊषा ढोरे, विधायक सुनील शेलके, पिंपरी चिंचवड़ पुलिस आयुक्त कृष्ण प्रकाश, पिंपरी चिंचवड़ मनपा आयुक्त श्रावण हार्डिकर, अप्पर पुलिस आयुक्त रामनाथ पोकले, पुलिस उपायुक्त सुधीर हिरेमठ, गोकी कंपनी के सीईओ विशाल गोंडल उपस्थित थे।

वाहनों में तोड़फोड़ की घटनाओं पर उपमुख्यमंत्री ने कहा कि, ऐसी घटनाओं में आम नागरिकों का नुकसान होता है। आखिर उनका क्या दोष है, वे क्यों बेवजह नुकसान सहन करें। ऐसी घटनाओं के आरोपियों के खिलाफ सख्त रवैया अपनाएं। अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करते वक्त किसी भी सियासी दबाव में आने की जरूरत नहीं है। राज्य के उपमुख्यमंत्री के नाते पुलिस बल को भरोसा दिलाते हुए अजित पवार ने कहा कि सियासी दबाव बनानेवाला चाहे किसी भी पार्टी का क्यों न हो, अगर वह गलत है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई करें। मेरे अलावा किसी का फोन आया तो मुझे बताएं, फोन करनेवाले को मैं देख लूंगा। मीडिया से की गई बातचीत में राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मेहबूब शेख को बचाने की कोशिश जारी रहने के आरोपों के बारे में पूछने पर पवार ने स्पष्ट किया कि, मेहबूब शेख लगे आरोप में अब तक कोई तथ्य नजर नहीं आया है। मामले की जांच जारी है, सरकार में शामिल एक पार्टी के नाते हम किसी के गलत कामों का समर्थन कदापि नहीं करते। अगर कोई गलत है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी ही। मगर यदि किसी को केवल बदनाम करने या उसका चरित्र हनन करने के लिहाज से कोशिश की जाती है तो वह भी गलत है। शेख के मामले में सच्चाई सबके सामने जल्द ही आ जायेगी।
You might also like

Comments are closed.