Covid 19: भारत में पूर्ण लॉकडाउन ही एक विकल्प; अमेरिका के प्रसिद्ध महामारी रोग विशेषज्ञ की राय

नई दिल्ली : भारत के कई राज्यों में अनेक प्रतिबंध लागू करने के बावजूद, कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर नियंत्रण नहीं पाया जा सका। कई राज्यों में स्थिति बेहद चिंताजनक है। इस बीच, भारत जैसे देश में कोरोना चेन तोड़ने के लिए कुछ हफ्तों के लिए पूर्ण लॉकडाउन ही एकमात्र विकल्प है। यह मत अमेरिका के महामारी रोग विशेषज्ञ डॉ. एंथनी एस फौसी द्वारा व्यक्त किया गया है।

द इंडियन एक्सप्रेस को दिए गए एक साक्षात्कार में फौसी ने कहा कि यदि देश में कुछ दिनों तक पूर्ण लॉकडाउन लागू किया जाता है, तो कोविड पर बहुत हद तक नियंत्रण किया जा सकता है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडन की सरकार में डॉ. एंथनी फौसी मुख्य स्वास्थ्य सलाहकार के रूप में जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।

भारत में कठिन परिस्थिति

भारत में जिस तरीके से कोरोना संक्रमण का प्रसार दिख रहा है, इस वजह से कई मरीजों को ऑक्सीजन और बेड के लिए जूझना पड़ता है। दवाओं का काला बाजार जारी है। लोग और प्रशासन कमजोर होते दिख रहे हैं। क्या करें? हर किसी के मन में ऐसा सवाल उठ रहा है। अनियंत्रित कोरोना के कारण भारत वर्तमान में बहुत कठिन परिस्थिति से गुजर रहा है। ऐसे समय में तुरंत क्या कर सकते हैं? ऐसी स्थिति में देश को कुछ हफ्तों के लिए पूर्ण लॉकडाउन ही एकमात्र विकल्प है।

टीकाकरण अभियान को गति देने की आवश्यकता

बायड्न सरकार के मुख्य स्वास्थ्य सलाहकार, डॉ. फौसी ने कहा कि टीकाकरण अभियान पर जोर देने की आवश्यकता है। यदि अगले कुछ हफ्तों में टीकाकरण अभियान को तेज किया जाता है, तो स्थिति को नियंत्रण में लाया जा सकता है। क्योंकि, अभी भारत में बहुत ही भ्रम की स्थिति है। लोग ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर सड़कों पर दौड़ते नजर आ रहे हैं। अस्पताल में भर्ती होने के लिए भी मरीजों को कतार में खड़े देखा जाता है।

नियंत्रण के लिए एक केंद्रीय समिति की आवश्यकता

डॉ फौसी ने अब तक सात अमेरिकी राष्ट्रपतियों के साथ काम किया है। फौसी ने कहा कि भारत में मेडिकल ऑक्सीजन के लिए लड़ाई शुरू है। इसलिए, ऑक्सीजन और दवाई के आपूर्ति की निगरानी के लिए तुरंत एक समिति गठित करने की तत्काल आवश्यकता है।

वैश्विक असमानता का उदाहरण

इससे पहले ‘द गार्जियन’ से बात करते हुए, उन्होंने कहा कि भारत में निर्माण हुई परिस्थिति वैश्विक असमानता का एक स्पष्ट उदाहरण है। भारत में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए पर्याप्त सहायता पहुंचाने में विश्व विफल रही है। विकसित और अमीर देश दुनिया भर में समान स्वास्थ्य सेवा पहुंचाने में असफल रहे।

कोरोना संक्रमण में अमेरिका पहले स्थान पर

विशेष रूप से, संयुक्त राज्य अमेरिका दुनिया में कोरोना संक्रमण में पहले स्थान पर है। भारत दूसरे और ब्राजील तीसरे स्थान पर है। अमेरिका में अब तक  3,31,93,974 लोगों को कोरोना संक्रमण हुआ है अउर 5,90,055 लोगो की मौत हुई है। भारत में कुल 1,91,64,969 मरीज मिले और 2,11,853 लोगों ने अपनी जान गंवाई।

You might also like

Comments are closed.