कोरोना से बेहाल भोपाल! Covid प्रोटोकॉल से 187 का अंतिम संस्कार, रिकॉर्ड में सिर्फ 5 मौतें

नई दिल्ली : ऑनलाइन टीम – देश में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति लगातार खराब होती जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, गुजरात और राजस्थान कोविड-19 के सबसे ज्यादा नए मामले दर्ज किए गए हैं। भारत में पिछले 24 घंटे में 1,61,736 नए केस दर्ज किए गए, वहीं संक्रमण से 879 और लोगों की मौत हो गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 12,64,698 हो गई है। वहीं अब तक 1,71,058 लोगों की मौत हो चुकी है।

इस बीच अब मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। दरअसल यहां श्मशान और कब्रिस्तानों में जलती और दफन होती लाशों की संख्या सरकारी कागजों में रोजाना दर्ज हो रही संख्या से कई गुना ज्यादा है। जहां पहले एक श्मशान में रोजाना 5 से 10 लाशें आती थीं, वहीं अब 35 से 40 लाशें आती हैं। कोविड प्रोटोकॉल के तहत जलाई जाने वाली लाशों की संख्या कोरोना मौतों के सरकारी आंकड़े से काफी ज्यादा है और अब श्मशान घाट भरे नजर आ रहे हैं। सरकार इन्हें कोरोना संदिग्ध मानती है तो विपक्ष इसे आंकड़े छुपाने का खेल बता रहा है।

एक हिंदी न्यूज़ चैनल के मुताबिक, भोपाल के भदभदा श्मशान घाट और सुभाष नगर विश्राम घाट में गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार और रविवार के दौरान इन दोनों श्मशानों पर कुल 187 लाशों का अंतिम संस्कार कोविड प्रोटोकॉल के तहत हुआ, जबकि सरकारी आंकड़े में इन चार दिनों में कोरोना से सिर्फ 5 मौतें हुई हैं। श्मशान घाटों में कोविड प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार के लिए अलग से व्यवस्था की गई है। घाट में शव जलाने के लिए लाइन लगानी पड़ रही है।

सरकारी आंकड़े के मुताबिक, सोमवार को पूरे मध्य प्रदेश में बीते 24 घंटे में कोरोना से 37 मौतें हुई हैं, जबकि भदभदा श्मशान घाट के आकंड़ों के मुताबिक, बीते 4 दिन में 133 लाशों का अंतिम संस्कार कोविड प्रोटोकॉल के तहत किया गया है। यहां गुरुवार को 31, शुक्रवार को 29, शनिवार को 34 और रविवार को 39 लाशें कोरोना प्रोटोकॉल के तहत जलाई गईं।

इसी तरह भोपाल के सुभाष नगर विश्राम घाट में भी बीते चार दिनों में कोविड प्रोटोकॉल के तहत 54 अंतिम संस्कार हुआ है. 8 अप्रैल गुरुवार को 7, शुक्रवार को 8, शनिवार को 16 और रविवार को 23 लाशें कोरोना प्रोटोकॉल के तहत जलाई गई हैं। वहीं सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, इन 4 दिनों में भोपाल में महज 5 कोविड मरीजों की मौत हुई है। सरकार ने गुरुवार को 2, शुक्रवार को 1, शनिवार को 1 मौत और रविवार को 1 मौत की सूचना दी है।

सरकारी आंकड़ों और श्मशान में जलती लाशों के अलग आंकड़ों पर अब विपक्ष पार्टी कांग्रेस सवाल उठा रही है। कांग्रेस के जीतू पटवारी ने कहा कि इसके लिए दोषी मध्य प्रदेश की सरकार है। जहां 10 लाशें आती थीं, अब रोजाना 100 आ रही हैं।

You might also like

Comments are closed.