रिश्वत लेते रंगेहाथ धराया अनुबंधित चिकित्सा अधिकारी

पुणे : कोरोना के रैपिड एंटीजैन टेस्ट रिपोर्ट देने के लिए अनुबंधित चिकित्सा अधिकारी द्वारा रिश्वत लेने की चौंकानेवाली घटना का पर्दाफाश पुणे एंटी करप्शन ब्युरो (एसीबी) ने किया। उस अधिकारी को डेढ हजार रूपए रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया।

गिरफ्तार किए गये आरोपी का नाम मिलिंद दामोदर कांबले (उम्र 38) है। इस मामले में एफआईआर दर्ज किया गया है? देश में फिर से कोरोना मरीज़ो की संख्या रफ्तार से बढ रही है। राज्य में कुछ जगहों पर लॉकडाउन भी किया गया है, टेस्टिंग बढाने की जानकारी भी दी गई है। एक तरफ लोग परेशान हैं वहीँ दूसरी तरफ इस तरह की घटना हैरान करने वाली है।

दौंड सरकारी अस्पताल में कांबले अनुबंध चिकित्सा अधिकारी हैं। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत वे काम कर रहे हैं। इस अस्पताल में कोरोना टेस्ट किया जाता है।

शिकायतकर्ता व उनके 19 कर्मी ने सरकारी अस्पताल दौंड में 16 फरवरी को केस पेपर निकालकर कोविड 19 एंटीजेन टेस्ट कराया। टेस्ट रिपोर्ट देने के लिए आरोपी जनसेवक नए हर रिपोर्ट का 100 रुपए यानी 1 हज़ार 900 रुपए की रिश्वत मांगी। इस मामले की जांच की गई। उसमें रिश्वत लेने की बात सामने आई। उसके अनुसार जाल बिछाकर डेढ हज़ार रुपए रिश्वत लेते एसीबी की टीम ने कांबले को रंगेहाथो पकड़ा। पकड़ा। इस कारवाई से जिले में सनसनी फैल गई।

You might also like

Comments are closed.