Chitra Wagh | पवना पाइपलाइन आंदोलन में तीन लोगों की जान गई थी तब बंद क्यों नहीं बुलाया गया था – चित्रा वाघ 

पुणे (Pune News) : Chitra Wagh | महाविकास आघाडी सरकार (Mahavikas Aghadi Government) ने सोमवार 11 अक्टूबर को महाराष्ट्र बंद (Maharashtra Bandh) बुलाया था।  लेकिन पवना पाइपलाइन आंदोलन (Protest) में तीन लोगों की जान गई थी।  उस वक़्त बंद क्यों नहीं बुलाया था ? यह सवाल महाराष्ट्र प्रदेश भाजपा (Maharashtra Pradesh BJP) की उपाध्यक्षा चित्रा वाघ (Chitra Wagh) ने किया है।

 

उन्होंने कहा कि राज्य में पुलिस (Police) का डर नहीं रह गया है।  आम महिलाओं ने पहले कभी भी मंत्रियों पर बलात्कार (Rape) का आरोप नहीं लगाया था।  गृह मंत्री फरार हुआ हो ऐसा कभी सुनने को नहीं मिला था।  महाराष्ट्र (Maharashtra) को कहा लेकर आ गए है।  यह कहते  हुए उन्होंने महाविकास आघाडी सरकार पर निशाना साधा है।
तलेगांव शहर भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) दवारा आयोजित गौरी गणपति सजावट स्पर्धा इनाम वितरण के मौके पर चित्रा वाघ बोल रही थी।  इस दौरान मंच पर  पूर्व राज्य मंत्री संजय भेगडे, पुणे जिला भाजपा अध्यक्ष गणेश भेगडे, जिला परिषद् सदस्या आशा बुचके, लोनावला की नगराध्यक्षा सुरेखा जाधव, मावल तालुका भाजपा अध्यक्ष रवींद्र भेगडे, महाराष्ट्र प्रदेश किसान मोर्चा के महासचिव संतोष दाभाड़े पाटिल, तलेगांव शहर भाजपा अध्यक्ष रवींद्र माने, तलेगांव के उपनगराध्यक्ष सुशील सैंदाने, श्रीधर पुजारी, विघ्नहर शक्कर कारखाना के संचालक नानासाहेब खैरे, तलेगांव शहर व तालुका के पूर्व वर्तमान नगरसेवक, पार्टी के पदाधिकारी उपस्थित थे।
इस मौके पर चित्रा वाघ (Chitra wagh) ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कई तरह से महिलाओं, किसानों को आर्थिक मदद दी है।  राज्य में आई पहली बारिश में हुए नुकसान की भरपाई अब तक नहीं पहुंची है।  महिलाओं की सुरक्षा करने वाले बलात्कारी निकल रहे है। छत्रपति शिवाजी महाराज होते तो ऐसे लोगों को खत्म कर चुके होते है।  यह सरकार जनता की वेदना समझ नहीं रही है।  केवल कुर्सी पर बैठे रहने का कार्यक्रम चल रहा है।  महाराष्ट्र बंद बुलाया है।  जब पवना पाइपलाइन आंदोलन (Pawana Pipeline Protest) में तीन लोगों की जान गई थी उस वक़्त क्यों नहीं बंद बुलाया था।

 

 

Pune | मनपा के पूर्व आयुक्त रवींद्र सुर्वे का पुणे में निधन

You might also like

Comments are closed.