आईसीयू बेड के लिए 1 लाख लेने का मामला: न्यायिक हिरासत में भेजे गए चारों डॉक्टर

पिंपरी। कोरोना संक्रमित मरीज को आईसीयू बेड उपलब्ध कराने के लिए एक लाख रुपए ऐंठने के मामले में गिरफ्तार किये गए चारों डॉक्टरों को न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। पिंपरी पुलिस ने तीनों डॉक्टरों के बाद अब एक 32 वर्षीय महिला डॉक्टर को गिरफ्तार किया है। उसका नाम डॉ ज्योत्स्ना नितिन दांडगे है। उसके साथ इससे पहले गिरफ्तार किए गए डॉक्टरों में फॉर्च्यून स्पर्श हेल्थ केयर के डॉ प्रवीण शांतवन जाधव, चिंचवड़ वाल्हेकरवाडी के पद्मजा हॉस्पिटल के डॉ. शशांक भरत राले और डॉ. सचिन श्रीरंग कसबे को अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया है।
पिंपरी चिंचवड़ मनपा और सरकारी कोविड सेंटर में मरीजों का इलाज पूरी तरह से मुफ्त में किया जाता है। इसके बावजूद एक मरीज के परिजनों से आईसीयू बेड के लिए एक लाख रुपए लिए जाने का मामला सामने आया है। इस मामले में मनपा के अतिरिक्त आयुक्त उल्हास जगताप (55, निवासी लिंक रोड चिंचवड, पुणे) ने पिंपरी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है। जिस कोरोना ग्रस्त मृतक महिला के परिजनों से पैसे लिए गए उस महिला के हाथ से सोने की दो अंगूठी भी गायब है। मामले की छानबीन में उक्त चार डॉक्टरों को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस कस्टडी में की गई जांच में उनसे 3 लाख 10 हजार रुपए की नकदी भी बरामद की गई है। पुलिस कस्टडी की मियाद खत्म होने से आरोपी डॉक्टरों को अदालत में पेश कर पुलिस ने इस रैकेट में शामिल अन्य आरोपियों तक पहुंचने के लिए कस्टडी बढ़ाने की दरकार लगाई। हालांकि अदालत ने सभी को न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया।
चिंचवड के ऑटो क्लस्टर में मनपा द्वारा शुरू किये गए जंबो कोविड हॉस्पिटल का संचालन फॉच्र्युन स्पर्श हेल्थ केयर को सौंपा गया है। यहां मरीजों का सारा इलाज मुफ्त किया जाता है और संस्था को मनपा की ओर से सारा भुगतान किया जाता है। इसके बावजूद यहां आईसीयू बेड उपलब्ध कराने के लिए एक मरीज के परिजनों से एक लाख रुपए लिए गए। मनपा स्कूल की मुख्याध्यापिका सुरेखा अशोक वाबले (निवासी चिखली, पुणे) के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद उनका वाल्हेकरवाड़ी के पद्मजा नामक अस्पताल में इलाज जारी था। तबियत बिगड़ने से वहां के डॉक्टरों ने उनके परिजनों से एक लाख रुपए लेकर ऑटो क्लस्टर के जंबो कोविड सेंटर में आईसीयू बेड उपलब्ध कराया। बाद में मुख्याध्यापिका की इलाज के दौरान मौत हो गई। भाजपा नगरसेवक कुंदन गायकवाड़ और विकास डोलस ने इस मामले को उजागर किया। मनपा की सर्वसाधारण सभा में सर्वदलीय नगरसेवकों ने इस मुद्दे पर प्रशासन को आड़े हाथों लिया। इस पर महापौर ऊषा ढोरे ने इस मामले में पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने के आदेश दिए। इसके अनुसार मनपा के अतिरिक्त आयुक्त उल्हास जगताप ने पिंपरी पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। इसके बाद पुलिस ने पहले तीन और अब एक कुल चार डॉक्टरों को गिरफ्तार किया है।
You might also like

Comments are closed.