7 लाख के गबन के मामले में कंपनी के पूर्व सीईओ के खिलाफ केस दर्ज

पिंपरी : पुणे समाचार ऑनलाइन – कंपनी खर्च के लिए लिए गए सात लाख 20 हजार रुपए का हिसाब न देकर कंपनी द्वारा दी गई वस्तुओं का खुद इस्तेमाल कर खुद के नाम पर कर कंपनी के साथ धोखाधड़ी किये जाने का मामला सामने आया है। इस बारे में कंपनी के भूतपूर्व सीईओ के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। 2013 से 15 नवंबर 2018 के बीच पिंपरी चिंचवड़ के कासारवाड़ी स्थित युनिक डेल्टा फोर्स सिक्युरिटी प्रा. लि. में यह घटना घटी है।

इस बारे में महेश विठ्ठल इराण्णा (70, निवासी घोरपडी, पुणे) ने भोसरी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है। इसके अनुसार पुलिस ने रविंद्र शिवाजी पोमण (निवासी रहाटणी, पुणे) के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार, रविंद्र युनिक डेल्टा फोर्स सिक्युरिटी कंपनी ने मुख्य कार्यकारी अधिकारी थे। 2014 में उन्होंने कंपनी खर्च के नाम से हर माह 60 हजार रुपये के हिसाब से सात लाख 20 हजार रुपये निकाले, जिसका हिसाब नहीं दिया।

शिकायतकर्ता का आरोप है कि रविन्द्र ने उक्त पैसे खुद के इस्तेमाल के लिए खर्च किये। 2013 में कंपनी के नासिक ऑफिस से मंगाये गयर 10 ग्राम सोने के सिक्के भी उन्होंने अपने पास ही रखे। इस्तीफा देने के बाद कंपनी की ओर से दिया गया एक लाख 20 हजार 399 रुपये का मोबाइल फोन जमा नहीं कराया। उसका नँबर भी परस्पर अपने नाम पर रजिस्टर करा लिया। कंपनी के पैसों और वस्तुओं का गबन करने के आरोप तले रविंद्र के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

You might also like

Comments are closed.