एक वर्षीय बच्ची के झुलसने की घटना में 5 के खिलाफ मामला दर्ज

पिंपरी : समाचार ऑनलाइन – एक्सरे निकालते वक्त अचानक से मशीन फटने से उसमें भरे केमिकल से एक साल की मासूम बच्ची झुलस गई। गत सप्ताह पिंपरी के न्यूक्लिअस डायग्नोस्टिक सेंटर, में यह हादसा हुआ जिसमें शार्वी भूषण देशमुख नामक बच्ची झुलस गई है। इस हादसे के बाद बच्ची की मां की शिकायत के अनुसार पिंपरी पुलिस ने डायग्नोस्टिक सेंटर के डॉक्टर और प्रबंधन के पांच लोगों के खिलाफ़ मामला दर्ज किया है।
जिनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है उनमें पिंपरी के न्यूक्लिअस डायग्नोस्टिक सेंटर के प्रबंधक गिरीश मोटे, डॉ. सुयोग सोमकुंवर, डॉ. रवींद्र फुलारी, टेक्निशियन अक्षय पाटिल, टेक्निशियन अपूर्वा कांबले आदि शामिल हैं। उनके खिलाफ शार्वी की मां प्रियांका भूषण देशमुख (31, निवासी चिंचवडगांव, पुणे) ने शिकायत दर्ज कराई है। गुरुवार की दोपहर साढ़े तीन बजे के करीब पिंपरी में यह घटना घटी थी।
पिंपरी पुलिस थाने के पुलिस उपनिरीक्षक ज्ञानोबा निकम से मिली जानकारी के अनुसार, यूरिन इंफेक्शन के चलते शार्वी का गत माह भर से सांगवी के भालेराव चिल्ड्रन हॉस्पिटल में उपचार शुरू है। यहां से डॉक्टरों ने शार्वी के अभिभावकों को उसके एक्सरे और कुछ टेस्ट कराने के लिए उन्हें पिंपरी के न्यूक्लिअस डायग्नोस्टिक सेंटर में भेजा गया। इसके अनुसार गुरुवार को उसे यहां लाया गया था। करीब साढ़े तीन बजे टेस्ट के दौरान अचानक से एक्सरे मशीन का कुछ हिस्सा फट गया और उसमें कोई केमिकल शार्वी पर गिरा जिससे वह झुलस गई।
शार्वी की मां प्रियंका ने पुलिस को बताया कि, मशीन में से धुआं निकल रहा था, उसका केमिकल गिरने से शार्वी घायल हो गई इसके बाद भी डायग्नोस्टिक सेंटर का कोई भी उनकी मदद के लिए नहीं आया। उल्टे कोई गंभीर बात नहीं है कहकर उन्हें लौटा दिया गया। यहां तक कि यहां के डॉक्टर भी मदद के लिए आगे नहीं आये। यही नहीं वहां के डॉक्टरों ने यह कहकर उनके साथ बदसलूकी की कि, अगर ऐसा हादसा तुम्हारे घर पर हुआ होता तो क्या करते? शार्वी के अभिभावकों ने डायग्नोस्टिक सेंटर पर लापरवाही का आरोप लगाया है। बहरहाल पिंपरी पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।
You might also like

Comments are closed.