सावधान! थकान, बदन दर्द, सूखी खांसी जैसे ‘ये’ 10 लक्षण हो सकते हैं ‘इस’ जानलेवा बीमारी के संकेत, जल्द कराएं HIV टेस्ट

समाचार ऑनलाइन– दुनिया में HIV को एक जानलेवा और घातक बीमारी माना गया है. इस बीमारी के फैलने के मुख्य कारणों में असुरक्षित यौन संबंध, दूषित खून एवं इस्तेमाल की हुई सिरिंज शामिल हैं.   वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने भी HIV या एड्स को दुनिया का सबसे बड़ा स्वास्थ्य खतरा बताया है. इसकी चपेट में आकर करीब 35 मिलियन लोगों की मौत हो गई है और अभी करीब 37 मिलियन से से अधिक लोग संक्रमित हैं.

इसलिए यह जानना जरूरी है कि कैसे इसके लक्षणों की पहचान की जाए और कैसे इससे निपटा जाए? हालांकि यह बीमारी पूरी तरह ठीक नहीं हो सकती, लेकिन कुछ हद तक इससे निपटा जा सकता है. तो जानते हैं इस बीमारी के लक्षण और बचाव के बारे में …

1) लंबे समय तक बुखार रहना
लंबे समय तक बुखार का ठीक नहीं होना HIV का लक्षण है. इसलिए अधिक समय तक बुखार न उतरने पर डॉक्टर का परामर्श लें.

2) हमेशा थकावट लगना

HIV के विषाणु शरीर को कमजोर बना देते हैं. इसलिए थोड़े से काम में ही थकान महसूस होने लगती है. या सामान्यत: भी संक्रमित व्यक्ति थकावट महसूस करता है.

3मांसपेशियों का जकड़ना

HIV ग्रसित को लगता है कि उसके शरीर की मांसपेशियां जकड़ रही हैं. इससे बैचेनी बेचैनी महसूस होती है.

 

4) सिरदर्द और गले की खराश

इस बीमारी से संक्रमित व्‍यक्ति के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी प्रभावित हो जाती है. इसलिए रोगी को अधिकतर सिरदर्द और गले में खराश की समस्या रहती है.

5) स्किन पर खुजली व दाग धब्बे की शिकायत

इस बीमारी की वजह से रोगी की त्वचा पर खुजली के साथ-साथ दाग-धब्बे उभर आते हैं।

 

6) वजन कम होना
इसके रोगी का वजन अच्छा खाने के बावजूद लगातार गिरता जाता है.

7) सूखी खांसी और रात में पसीना आना

संक्रमित व्यक्ति को बैचेनी के साथ-साथ अधिक पसीना आने की शिकायत रहती है. साथ ही सुखी खासी की दिक्कत रहती है.

8) पीले नाखून और एकाग्रता में कमी
मरीज के नाखूनों में पीलापन नजर आने लगता है. साथ ही किसी चीज में ध्यान नहीं लगा पाते. क्योंकि उनमें एकाग्रता की कमी हो जाती है.

You might also like

Comments are closed.