बड़ी खबर ! नहीं सुलझा सरकार बनाने का पेंच तो शिवसेना भाजपा से तोड़ेगी नाता

मुंबई : समाचार ऑनलाइन – राज्य में शिवसेना और भाजपा के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान जारी है ।  सूत्रों  से मिली जानकारी के अनुसार अगर मामला नहीं सुलझा तो जल्द ही शिवसेना महायुति से अलग हो सकती है ।  महाराष्ट्र में सरकार बनाने में शिवसेना का यह दांव मिल का पत्थर साबित हो सकता है ।
शिवसेना भवन में पार्टी नेताओं की अहम् बैठक चल रही है ।  इस बैठक से पहले शिवसेना नेता गुलाबराव पाटिल ने  कहा कि सीएम शिवसेना से होना चाहिए। हम उद्धव ठाकरे के आदेशों की प्रतीक्षा कर रहे है । जब तक हमें बताया जाएगा हम होटल में रहेंगे।
राष्ट्रपति शासन की फ़िराक में बीजेपी 
शिवसेना का आरोप है भाजपा राज्य में राष्ट्रपति शासन की फ़िराक में है ।  कुछ देर पहले प्रेस कांफ्रेंस में शिवसेना नेता संजय राऊत ने कहा कि उनकी लड़ाई जारी रहेगी। बताया जाता है कि शिवसेना के विधयक अगले दो दिनों तक होटल में रहेंगे।  राज्यपाल को संवैधानिक पहलू पर विचार करना पड़ेगा।
जयपुर जायंगे कांग्रेस के विधायक 
कांग्रेस विधायक नितिन राऊत ने एक मीडिया हाउस से बात करते हुए कहा कि  बीजेपी ने उनके विधायकों से संपर्क किया है और उनके विधायकों को पैसों का ऑफर दिया जा रहा है ।   बताया जा रहा है कि कांग्रेस अपने विधायकों को जयपुर भेज रही है ।
गडकरी मध्यस्थता करे लिए तैयार 
इस बीच बीजेपी नेता नितिन गडकरी ने कहा कि मैं  मध्यस्थता के लिए तैयार हूं ।  उन्होंने साफ कहा कि शिवसेना के साथ हमारी मुख्यमंत्री पद को लेकर काफी बातचीत नहीं हुई थी ।  ढाई-ढाई साल सीएम पद का कोई वादा नहीं किया गया ।  सीएम पद तो बीजेपी के पास ही रहेगा।
नहीं करेंगे खरीद फरोख्त 
विधायकों की खरीद फरोख्त पर नितिन गडकरी ने कहा कि ये आरोप बेबुनियाद है ।  हम कभी भी विधायकों की खरीद फरोख्त के पक्ष में नहीं है । हम तैयार है, शिवसेना को सकारातमक सोचना चाहिए।

Comments are closed.