Loading...

बदायूं गैंगरेप…पत्नी को बुलाने की जिद में पति ने फोड़ा सिर, पति मेंटल ट्रॉमा में

Loading...

बदायूं. ऑनलाइन टीम : उत्तर प्रदेश के बदायूं में 50 वर्षीय महिला के साथ हुई बर्बरता के बाद उसके पति की मानसिक स्थिति खराब हो गई है। वह असामान्य और असहज महसूस कर रहे थे। घटना का स्याह पक्ष उन्हें बार-बार उद्वेलित कर देता है। घर वालों के अनुसार, अर्द्धविक्षिप्त हालत में वह घर के लोगों को घूरने लगते हैं। इसलिए लोग उनके ऊपर ध्यान रख रहे हैं। सोमवार को दोपहर में वे सो रहे थे। अचानक पर जोर से चीखने लगे और पत्नी को पूरे घर में खोजने लगे। कभी इधर भागते, तो कभी उधर। पत्नी नहीं मिली तो उन्होंने कोयले से भरी अंगीठी उठाई और घऱ के बाहर भाग गए। किसी तरह घरवाले उन्हें पकड़कर घर के अंदर लाए तो वह दीवार पर अपना सिर पटकने लगे।

Loading...

दरअसल, पत्नी के साथ हुई निर्ममता का दृश्य उन्हें विचलित कर देता है। खून से लथपथ शरीर का ही जिक्र करते हैं। बड़बड़ाते रहते हैं कि वह तो मंदिर गई है न, प्रार्थना कर चली आएगी। अभी तक क्यों नहीं आई। मालूम हो कि गैंगरेप करने के बाद उसकी बेरहमी से हत्या कर दी गई थी।  प्राइवेट पार्ट में रॉड डालकर कपड़ा ठूंसा गया। उसके पीठ और पैर तोड़ दिए गए थे।

Loading...

उनके दामाद ने कहा कि शादी के बाद से हमेशा उनके ससुर का ध्यान उनकी सास ने ही रखा। उन्हें उनकी आदत सी पड़ी है। कुछ साल पहले जब ससुर बीमार पड़ गए, तो सास ने उनका और ज्यादा ध्यान रखना शुरू कर दिया। परिवार चलाना, बच्चों के संभलना, पति की देखभाल सब सास के जिम्मे ही था। बहरहाल,  हालत बिगड़ने पर उन्हें मंगलवार को बरेली के मानसिक अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। उन्हें 15 दिनों की दवाएं दी गई हैं।  उनके सिर पर जो चोटें आई हैं उसके इलाज के लिए  सीटी स्कैन हुआ है।  इस बीच, लखनऊ से एक फरेंसिक टीम ने दोनों गांवों का दौरा किया – जहां की महिला रहने वाली थी और दूसरे गांव, जहां उनका रेप किया गया।

उघैती थाना क्षेत्र के एक गांव की उक्त 50 वर्षीय आंगनबाड़ी सहायिका रोज की तरह पूजा करने गई थी। यह उसके दिनचर्या में शामिल था। उसे नहीं मालूम था कि उसके साथ क्या होने वाला है। काफी देर तक उसका कोई पता नहीं चला। दर्ज आरोप के मुताबिक,  देर रात मंदिर का महंत अपनी बोलेरो से उसका शव घर के दरवाजे पर फेंककर चला गया। परिजनों ने देखा तो आवाक रह गए। वह तो महिला को खोजने में परेशान थे। मगर शव की हालत देख उन्होंने आंखें बंद कर ली। देखने की हिम्मत भी भला कोई कैसे उठाए? जानकारी मिलने पर पुलिस पहुंची।

परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी महंत समेत उसके एक चेले व ड्राइवर के खिलाफ गैंगरेप के बाद हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। सोमवार की दोपहर 18 घंटे बाद लाश पोस्टमार्टम के लिए भेजी गई। महिला डॉक्टर समेत तीन डॉक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया। शाम को रिपोर्ट आई तो पता चला कि महिला के प्राइवेट पार्ट में गंभीर घाव थे। काफी खून भी निकल गया था। रिपोर्ट में कोई लोहे की रॉड या सब्बल गुप्तांग में ठूंसे जाने की बात भी सामने आई। उसकी बाईं पसली, बायां पैर और बायां फेफड़ा भी वजनदार प्रहार से क्षतिग्रस्त कर दिया गया। महिला की मौत की वजह अधिक रक्तस्राव व सदमा लगने से होना सामने आई है। बताया जाता है कि इससे पहले आरोपी महंत उसे अपनी गाड़ी से इलाज के लिए चंदौसी भी ले गया था।

Loading...

Comments are closed.