Anti Corruption Bureau Nashik | जमानत दिलाने के लिए 10 हजार की रिश्‍वत लेते पुलिस सब इंस्‍पेक्‍टर और कांस्टेबल एसीबी के जाल में फंसे

नासिक : Anti Corruption Bureau Nashik | संदिग्‍ध आरोपी को जमानत दिलाने के लिए 10 हजार रुपए की रिश्‍वत (bribe) लेते अंबड पुलिस स्‍टेशन (Ambad Police Station) के पुलिस सब इंस्‍पेक्‍टर (PSI) और कांस्‍टेबल (constable) को नासिक एंटी करप्‍शन ब्‍यूरो (Anti Corruption Bureau Nashik) ने जाल बिछाकर रंगेहाथों पकड़ लिया है. इस कार्रवाई से अंबड पुलिस स्‍टेशन में खलबली मच गई है. नासिक एसीबी (Nashik ACB) ने बुधवार को अंबड पुलिस स्‍टेशन परिसर में यह कार्रवाई की.

पकड़े गए आरोपियों के नाम पुलिस सब इंस्‍पेक्‍टर कैलाश आनंदा सोनवणे और कांस्‍टेबल दीपक बालकृष्‍ण वाणी है. इस मामले में शिकायतकर्ता ने नासिक एसीबी से शिकायत की थी. शिकायतकर्ता ने आरोपियों के खिलाफ अंबड पुलिस स्‍टेशन में धारा 353 और 143 के तहत केस दर्ज करवाया है. इस अपराध में शिकायतकर्ता को नासिक कोर्ट से अंतरिम जमानत मिल गई है.

लेकिन पुलिस स्‍टेशन में जमानत की प्रक्रिया पूरी करने के लिए सोनवणे और वाणी ने शिकायतकर्ता से 15 हजार रुपए की रिश्‍वत मांगी थी. समझौते के बाद यह डील 10 हजार रुपए तय हुई थी. शिकायतकर्ता द्वारा एसीबी से इसकी शिकायत किए जाने के बाद टीम ने इस शिकायत की जांच कर जाल बिछाया.

शिकायतकर्ता से पुलिस सब इंस्‍पेक्‍टर कैलाश सोनवणे और कांस्‍टेबल दीपक वाणी अंबड पुलिस स्‍टेश्‍न परिसर में रिश्‍वत की रकम ले रहे थे. इसी दौरान टीम ने दोनों को रंगेहाथों पकड़ लिया. उनके खिलाफ अंबड पुलिस स्‍टेशन में केस दर्ज किया गया है. इसके बाद दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया.

You might also like

Comments are closed.