Ajit Pawar In Pune | अजित पवार ने ‘विकास’ के मुद्दे को उठाकर आगामी मनपा चुनाव की दिशा को किया स्पष्ट

पुणे : Ajit Pawar In Pune | उपमुख्यमंत्री और पालक मंत्री अजित पवार (Ajit Pawar) ने राजनीतिक टीका टिप्पणी को टालकर ‘विकास’ के मुद्दे (Development Issues) को उठाकर आगामी मनपा चुनाव (Upcoming Municipal Election) के प्रचार की दिशा स्पष्ट कर दी। इसलिए आगामी चुनाव में राष्ट्रवादी कांग्रेस (NCP) पिछले पांच साल के विकास के मुद्दे को केंद्र में रखेगी,  ऐसे संकेत मिल (Ajit Pawar In Pune) रहे हैं।

 

सड़क, पानी, ड्रेनेज, प्राथमिक स्वास्थ्य, कचरा प्रबंधन, सार्वजनिक यातयात जैसी मूलभूत जरूरत मनपा के माध्यम से पूरे किए जाते हैं। खास कर के साक्षरता (Literacy) और सामाजिक चेतना (Social Consciousness) वाले पुणे (Pune) जैसे शहर में लोग ज्यादा जागरुक होते हैं। इसलिए लोकसभा (Lok Sabha), विधानसभा (Vidhan Sabha) जैसे चुनाव और मनपा चुनाव (Municipal Elections) में लोगों की प्रधानता दैनिक सुविधा रहती है।

 

पिछले 30 वर्षों में प्रमुख रूप से वैश्वीकरण और कम्यूटर के युग के बाद शहरी सुविधाओं का ट्रेंड ही बदल गया है। पिछले 30 वर्षों में जिस तेजी से पुणे का शहरीकरण (Pune Urbanization) और सीमा बढने की तुलना में बुनियादी सुविधा निर्माण करना हर सत्ताधारी के सामने चुनौती रहेगा। पुणे नहीं बल्कि देश के बड़े शहरों में लगभग यही परिस्थिति देखने को मिलती है। इसके बाद भी केंद्र (Central Government) और राज्य (State Government) की सरकार सत्ता का इस्तेमाल कर हर शहर को सुविधा देने की कोशिश कर रही है।

 

शहरी विकास का उदाहरण देना है तो पिंपरी चिंचवड (Pimpri Chinchwad) और नवी मुंबई (Navi Mumbai) का नाम सबसे ऊपर होगा। प्रमुख रूप से सड़्कों का विकास, कचरा प्रबंधन व नवी मुंबई  के  सुनियोजित विकास का उदाहरण भी दिया जाता है। 2017 से पहले तक 10 वर्ष पुणे, पिंपरी चिंचवड, नवी मुंबई मनपा में राष्ट्रवादी कांग्रेस की सत्ता थी। उससे पहले कांग्रेस (Congress) की सत्ता थी। वहीं पिछले पांच साल से भाजपा (BJP) की सत्ता थी।

 

केंद्र में लगातार दूसरी बार सत्ता मिले भाजपा को 2019 के लोकसभा और विधानसभा चुनाव में पुणे, पिंपरी चिंचवड और जिले में 2014 की तरह सफलता नहीं मिली। इन दोनों चुनाव में राष्ट्रवादी कांग्रेस ने पुनरागमन किया। इसकी वजह शरद पवार और और साहसिक फैसला लेनेवाले अजित पवार का नेतृत्व है। भाजपा ने पवार परिवार पर भ्रष्टाचार (Corruption) का आरोप लगाया फिर भी जनता को दोनों सत्ता में फर्क पता है।

 

इसलिए वर्तमान का विपक्ष भाजपा ने महाविकास आघादी सरकार और पुणे में खास कर के राष्ट्रवादी कांग्रेस और पवार परिवार पर आरोपों की झड़ी लगा दी। फिर भी अजित पवार (Ajit Pawar In Pune) ने उत्तर देना मुनासिब नहीं समझा। कोरोना काल में लगातार समीक्षा बैठक और मनपा के प्रमुख पदाधिकारियों को विश्वास में लेकर महत्वपूर्ण कदम उठाया। मनपा (PMC) से आनेवाले प्रस्ताव को बिना किसी देरी के मंजूर किया। राजनीतिक आरोप प्रत्यारोप में ध्यान न देकर विकासात्मक और रचनात्मक कामों पर अधिक बल दिया। रविवार को उन्होने शहर में विविध जगहों पर 3 कार्यक्रमों में हिस्सा लिया।

 

सुबह 7 बजे सुस म्हालुंगे स्थित विकास कामों का उद्घाटन से लेकर

 

वारजे, आंबेगांव, सुखसागरनगर, कोंढवा, वानवडी, हडपसर, खराड़ी, धानोरी, रात को नौ बजे तक विश्रांतवाडी में विकास काम का उद्घाटन किया। योजना के अनुसार धानोरी के कार्यक्रम में भाषण के अलावा और कहीं भी भाषण नहीं था, लेकिन हर जगह नगरसेवकों ने सभा की व्यवस्था की थी। उन जगहों पर पवार ने कुछ मिनटों का भाषण दिया, जिसमें विकास का मुद्दा ही मुख्य था। विपक्ष पर कोई टीका टिप्पणी नहीं की। इससे अजित पवार ने आगामी चुनाव में राष्ट्रवादी की दिशा क्या होगी, इसे स्पष्ट कर दिया।

 

Pune Crime | येरवडा में तड़ीपार गुंडे ने घर में घुस कर 21 वर्षीय युवती का किया शोषण; पीड़िता की मां के साथ गाली-गलौज

Pune Crime | एंटी करप्शन का बताकर 17 लाख रुपये की लूट; स्वारगेट के वेगा सेंटर के पास की घटना

You might also like

Comments are closed.