पुणे पुलिस आयुक्तालय में शामिल होने के बाद लोणीकंद और लोणी कालभोर की समस्याओं को जल्द से जल्द सुलझाने पर जोर

पुणे: लोणीकंद व लोणी कालभोर पुलिस थाने का समावेश पुणे पुलिस आयुक्तालय में होने के बाद अब तेजी से यहाँ की समस्या सुलझाने पर जोर दिया जा रहा है। सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण ट्रैफिक की समस्या और अपराध को कम करने की ओर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। दो नए ट्रैफिक विभाग जल्द से जल्द शुरू किए जाएंगे। इसलिए लोणी कालभोर और लोणी कंद के निवासी को अब ट्रैफिक की परेशानी से छुटकारा मिलने की संभावना है।

पुलिस आयुक्त अमिताभ गुप्ता, सह आयुक्त डॉ रवींद्र शिसवे और पुणे ग्रामीण के पुलिस अधीक्षक डॉ अभिनव देशमुख के बीच औपचारिक बैठक हुई।  इस बैठक में सही मायने में इस क्षेत्र की समस्या क्या है साथ ही क्या उपाययोजना किए जा सकते हैं इस बारे में चर्चा हुई। पुणे शहर को 6 नए पुलिस थाने मिलेहैं। इसमे ग्रामीण के इन दो पुलिस थाने का समावेश है। बीते कई वर्षो से इसका काम शुरू था लेकिन 23 मार्च को इन दोनो थाने का काम पुणे शहर आयुक्तालय में शुरू हुआ। इसके बाद यहां की समस्याओं को सुलझाने के लिए पुलिस आयुक्त अमिताभ गुप्ता व सह पुलिस आयुक्त डॉ रविंद्र शिसवे व वरिष्ठ अधिकारियों ने काम शुरू किया। यहाँ का क्राइम अलग तरीके का है। इसलिए जल्द से जल्द काम शुरू कर लोगो को उचित मदद और भयमुक्त वातावरण देने की कोशिश की जाएगी। इन दो पुलिस थाने की सीमा बहुत बड़ी है। इसलिए इसके अनुसार नियोजन शुरू होने की जानकारी अधिकारियों ने दी।

सह पुलिस आयुक्त रविंद्र शिसवे ने कहा कि यहाँ की ट्रैफिक और क्राइम मुख्य समस्या है। इस ओर विशेष ध्यान केंद्रित की जा रही है। ट्रैफ़िक समस्या से लोगो को जल्द से जल्द छुटकारा दिलाने के लिए दो ट्रैफिक विभाग शुरू किए जाएंगे। साथ ही कर्मचारियो की भी नियुक्ति की जाएगी। इसके साथ ही अपराधियों पर लगाम लगाने के लिए प्लानिंग की जा रही है। ऐसे में यहाँ के निवासियों की समस्या जल्द से जल्द हल होगी।

उपायुक्त प्रतिदिन एक बार दौरा करेंगे

नया पुलिस थाना शुरु होने के बाद पुलिस आयुक्त, सह पुलिस आयुक्त ने दौरा किया। इसके बाद अब यहाँ का कामकाज सुचारू रूप से साथ ही कोई परेशानी या कामकाज का सर्वेक्षण करने के लिए पुलिस उपायुक्त व सहायक पुलिस उपायुक्त को हर रोज एक बार पुलिस थाने का दौरा करने का सुझाव दिया गया है। इसके साथ ही यहाँ का मेन पावर भी कम है, इसलिए जल्द से जल्द आवश्यक मेन पावर और पुलिस अधिकारी दिए जाएंगे। इसका काम शुरू है, बुधवार को इन दो पुलिस थानो को 6 पुलिस उपनिरीक्षक अधिकारी दिए गए हैं।

पुणे शहर जितनी इन दो पुलिस थानो की सीमा

पुणे शहर में इससे पहले 30 पुलिस थाने हैं। अब इन दो पुलिस थाने के आयुक्तालय में शामिल होने के बाद इसकी संख्या 32 हो गई है। 30 पुलिस थानो को मिलाकर इनकी सीमा 500 से 550 क्षेत्रफल है, लेकिन सिर्फ इन दो पुलिस थानों की सीमा 500 क्षेत्रफल है।  इसलिए एक ओर पूरा शहर और दूसरी ओर इन दोनो थानो की सीमा है। इसलिए यहाँ काम करना बहुत मुश्किल होनेवाला है।

वरिष्ठ अधिकारियों में कोई बदली नहीं

पुलिस थाने के आयुक्तालय मए समावेश होने के बाद चर्चा थी कि अब यहाँ के वरिष्ठ अधिकारी कौन होंगे? यह चर्चा कई दिनो से चल रही थी। इस थाने का पहला मान किसे मिलने वाला है इस ओर अधिकारियों के साथ ही पुलिस टीम की नजर थी। लेकिन अब इस पर वरिष्ठ अधिकारियों ने पूर्ण विराम लगाते हुए स्पष्ट किया कि इसमें कोई बदलाव नहीं होंगे।

You might also like

Comments are closed.