बर्थडे पार्टी के बाद 14 वर्षीय किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म बाद में चलाई गोली

पुणे। अपनी सहेली के साथ बर्थडे पार्टी में गई एक 14 वर्षीय किशोरी के साथ दो लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया, उसके बाद उनके और दो दोस्त उसके साथ शारीरिक संबंध बनाना चाहते हैं, कहकर उसे रोकने की कोशिश की। जब पीड़िता ने मना किया तो उस पर गोली चला दी। हालांकि गोली मोबाइल में लगने से पीड़िता की जान बच गई। पुणे में उजागर हुई इस जघन्य वारदात का खुलासा घटना के 15 दिन बाद तब हुआ जब दो में से एक आरोपी को पुलिस ने अवैध असलहे के साथ गिरफ्तार किया। इस मामले में पुलिस ने 5 लोगों को हिरासत में लेकर दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
इस मामले में पुणे की जनता बसाहट में रहनेवाली 14 वर्षीय किशोरी ने दत्तवाड़ी पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। इस मामले में अब तक पांच आरोपियों को हिरासत में लिया गया है। उनमें से कृष्णा ऊर्फ रोहन अशोक ओव्हाल (24.) और निरंजन ऊर्फ निलेश शिंदे (30, निवासी वारजे मालवाडी, पुणे) को गिरफ्तार किया गया है। 27 मार्च को पुणे पुलिस की क्राइम ब्रांच के यूनिट 2 की टीम ने श्रीकांत राजेंद्र काले (23, निवासी वारजे मालवाडी, पुणे) को धनकवडी की श्मशान भूमि के पास से अवैध असलहे के साथ गिरफ्तार किया था। उसके पास से एक देसी पिस्तौल और तीन कारतूस बरामद कर उसके खिलाफ सहकारनगर पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है। अवैध असलहे के बारे में पूछताछ के दौरान उसने 15 दिन पहले सामूहिक दुष्कर्म और फायरिंग के वारदात की जानकारी दी। काले पुलिस रिकॉर्ड पर दर्ज एक शातिर बदमाश गया उसके खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज है।
इसके बाद पुलिस ने पीड़ित किशोरी को ढूंढ निकाला और उसकी शिकायत के आधार पर सामूहिक दुष्कर्म और जान से मारने की कोशिश का मामला दर्ज किया। पुलिस की रिपोर्ट के अनुसार, करीबन 15 दिन पहले पीड़ित किशोरी अपनी एक सहेली के साथ वारजे मालवाडी की एसआरए बिल्डिंग में श्रीकांत काले के फ्लैट पर बर्थडे पार्टी में शामिल होने के लिए गई गई थी। उन्हें उनके पैड़ी नामक दोस्त ने बुलाया था। पार्टी के बाद पैडी और कृष्णा ओव्हाल ने किशोरी के साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद उसने पीड़िता को यह कहकर रोकने की कोशिश की कि उसके निरंजन और दशरथ नामक दोस्तों को भी उसके साथ शारीरिक संबंध बनाने हैं। जब पीड़िता ने उसे मना किया और वहां से जाने लगी तब उसने पिस्तौल निकालकर उसकी छाती पर गोली चला दी।

हालांकि मोबाइल पर गोली लगने से पीड़िता की जान बच गई। कृष्णा ने पीड़िता और उसकी सहेली को धमकाते हुए कहा कि पैड़ी के हाथों गलती से गोली चली है अगर इस बारे में किसी को कुछ बताया तो उसे सही में जान से मार दिया जाएगा। केवल मोबाइल फोन की वजह से पीड़िता की जान बच गई और उसे मामूली चोट आयी। इसके बाद उसकी सहेली के साथ वह घर चली आयी। घरवालों को उसने गिरने की वजह से चोटिल होने की बात कही और जान के डर से उसके साथ हुई ज्यादती के बारे में उसने किसी को कुछ नहीं बताया। बहरहाल पुलिस छानबीन में जुटी हुई है।

You might also like

Comments are closed.