सियोल, प्योंगयांग ने संचार हॉटलाइन बहाल की

सियोल, 27 जुलाई (आईएएनएस)। सियोल में राष्ट्रपति ब्लू हाउस ने मंगलवार को घोषणा की कि एक साल से ज्यादा समय से कटी हुई दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया ने अपनी सीमा पार संचार लाइनें बहाल कर दी हैं।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, ब्लू हाउस ने एक बयान में कहा कि दोनों कोरियाई देशें ने मंगलवार सुबह 10 बजे से अपनी सीधी संचार हॉटलाइन फिर से शुरू करने का फैसला किया।

उत्तर कोरिया द्वारा सियोल ने नागरिक कार्यकतार्ओं को प्योंगयांग विरोधी प्रचार पत्र भेजने से रोकने में विफल रहने के विरोध में पिछले साल जून से सभी संचार लाइनें काट दी गई थीं।

एक बयान के अनुसार, दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन ने अंतर-कोरियाई संबंधों को बहाल करने के मुद्दों के बारे में संवाद करने के लिए अप्रैल से कई बार व्यक्तिगत पत्रों का आदान-प्रदान किया है।

बयान में कहा गया है कि मून और किम पहले कटे हुए अंतर-कोरियाई संचार लाइनों को बहाल करने के लिए सहमत हुए।

दोनों नेताओं ने आपसी विश्वास बहाल करने और जल्द से जल्द संबंध बढ़ाने पर भी सहमति जताई।

मंगलवार को समाचार की रिपोर्ट करते हुए, प्योंगयांग की आधिकारिक कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (केसीएनए) ने कहा कि संचार संपर्क लाइनों की बहाली उत्तर-दक्षिण संबंधों के सुधार और विकास पर पॉजिटिव प्रभाव डालेगी।

दक्षिण कोरियाई रक्षा मंत्रालय ने एक अलग बयान में कहा इस बीच, दक्षिण और उत्तर कोरियाई सैन्य अधिकारियों ने अपनी सैन्य संचार लाइनों को फिर से खोल दिया और उन्हें सुबह 10 बजे से सामान्य ऑपरेशन में वापस कर दिया।

मंत्रालय ने नोट किया कि फाइबर-ऑप्टिक केबल के माध्यम से फिक्स्ड लाइन फोन कॉल और दस्तावेजों के आदान-प्रदान के लिए फैक्स करना वर्तमान में एक सामान्य ऑपरेशन के तहत है।

मंगलवार दोपहर से, दोनों कोरिया के सैन्य अधिकारियों ने अपने नियमित फोन कॉल को दिन में दो बार सुबह 9 बजे और शाम 4 बजे फिर से शुरू करने की योजना बनाई।

मंत्रालय ने कहा कि अंतर-कोरियाई सीमा पर पश्चिमी सैन्य हॉटलाइन ने सामान्य रूप से काम किया, लेकिन पूर्वी हॉटलाइन में कुछ तकनीकी समस्या पाई गई।

इसमें कहा गया है कि बहाल की गई हॉटलाइन कोरियाई प्रायद्वीप पर सैन्य तनाव को कम करने में महत्वपूर्ण योगदान देगी।

–आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

You might also like

Comments are closed.