सिंधु का कारनामा दुर्लभ, अगली पीढ़ी को करेगा प्रेरित: अभिनव बिंद्रा

नई दिल्ली,1 अगस्त (आईएएनएस)। ओलंपिक खेलों में भारत के एकमात्र व्यक्तिगत स्वर्ण पदक विजेता, राइफल निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु को दो ओलंपिक पदक जीतने वाली देश की पहली महिला खिलाड़ी बनने की उपलब्धि पर बधाई देते हुए कहा कि यह एक दुर्लभ उपलब्धि है और एथलीटों की पीढ़ी उनके जैसा रोल मॉडल पाने के लिए भाग्यशाली है।

सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक पत्र में, 2008 बीजिंग ओलंपिक में 10 मीटर एयर राइफल स्वर्ण के विजेता, बिंद्रा ने कहा, टोक्यो ओलंपिक 2020 में कांस्य पदक जीतने के लिए बहुत-बहुत बधाई। हमारे देश के बहुत कम एथलीट भाग्यशाली रहे हैं। जो आपने हासिल किया है उसे हासिल करें। वास्तव में, दुनिया भर में अधिकांश खेल करियर ओलंपिक पदक के बिना खत्म हो जाते हैं, यहां तक कि चमकदार छोटी गोल वस्तु को जीतने के लिए वर्षों और वर्षों लग जाते है।

अभिनव ने रविवार को चीन की ही बिंगजाओ को 21-13, 21-15 से हराकर कांस्य पदक जीतने के बाद अपने पत्र में कहा कि यह दिखाता है कि इस तरह की उपलब्धि हासिल करना कितना दुर्लभ है और किसी सपने सच करने के लिए कितना पागल होना पड़ता है।

अगली पीढ़ी के एथलीट भाग्यशाली हैं कि उनको एक रोल मॉडल मिला है, जो अभ्यास और ²ढ़ता के गुणों का एक अवतार है, दो गुणों की आवश्यकता विशिष्ट प्रतियोगिताओं में पनपने के लिए बहुतायत में होती है।

बिंद्रा ने लिखा कि आपका पदक पूरी तरह से खेल की शक्ति को समाहित करता है और यह कैसे एकजुटता की अपनी अविनाशी भावना के माध्यम से हम सभी को प्रेरित करता रहता है। आपकी एक रोमांचक कहानी है। मैं आपको उस खुशी के लिए धन्यवाद देता हूं जो आप आपने देश के लिए लाई है और आशा करता हूं कि आप ओलंपिक के मूल्यों का प्रसार करना जारी रखेंगी और एक ओलंपिक पदक विजेता के रूप में अपनी जिम्मेदारियों को उसी ऊर्जा के साथ निभाएंगी, जिस तरह से आपने टोक्यो में हम सभी को चकाचौंध कर दिया।

–आईएएनएस

एमएसबी/एचके

You might also like

Comments are closed.